BSEB 10th Toppers 2023: बिहार बोर्ड टॉपर्स को मिलेंगे 1 लाख रूपये, Laptop और ये सब अवार्ड्स

बिहार विद्यालय परीक्षा समिति आजकल में ही Bihar Board 10th Result 2023 जारी करने वाला है। बिहार के शिक्षा मंत्री और बोर्ड चेयरमैन BSEB 10th Result 2023 जारी करेंगे। जिन छात्रों ने इस साल बिहार बोर्ड 10वीं कक्षा की वार्षिक परीक्षा में भाग लिया था, वह अपना परिणाम बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर चेक कर सकेंगे।

Bihar School Examination Board Patna 2023 द्वारा जारी आधिकारिक अधिसूचना में कहा गया है, कि बीएसईबी मैट्रिक परीक्षा 2023 में शीर्ष पांच स्थान हासिल करने वाले टॉपर्स को सम्मानित करेगा।

बिहार विद्यालय परीक्षा समिति द्वारा यह घोषणा की गई है कि प्राथमिकता सूची में शीर्ष पांच स्थान प्राप्त करने वाले मेधावी छात्रों को लैपटॉप, नकद पुरस्कार और ई-बुक रीडर उपहार के रूप में दिए जाएंगे।

Bihar Board 10th Result Toppers Award

  • प्रथम स्थान स्थान पर रहने वाले को एक लाख रुपये का नकद पुरस्कार, एक लैपटॉप और एक किंडल ई-बुक रीडर दिया जाएगा।
  • दूसरे स्थान पर रहने वाले को 50,000 रुपये नकद, एक लैपटॉप और एक किंडल ई-बुक रीडर से सम्मानित किया जाएगा।
  • वहीं, तीसरे स्थान पर आने वाले होनहारों को लैपटॉप और किंडल ई-बुक रीडर के साथ 50,000 रुपये का पुरस्कार भी दिया जाएगा।
  • वहीं, चौथी और पांचवीं स्थान हासिल करने वाले छात्रों को 15-15 हजार रुपये और एक लैपटॉप दिया जाएगा।

बिहार स्कूल एग्जामिनेशन बोर्ड ने घोषणा की है कि वह मैट्रिक यानी कक्षा 10वीं की परीक्षा के टॉपर्स को सम्मानित करेगा।

BSEB Patna द्वारा मैट्रिक परीक्षा का रिजल्ट आजकल में घोषित किया जा सकता है, कक्षा 10वीं का परिणाम राज्य के शिक्षा मंत्री प्रोफेसर चंद्रशेखर और बीएसईबी अध्यक्ष द्वारा घोषित किया जाएगा।

ऐसे हुआ टॉपर्स का वेरिफिकेशन

उन सभी को टॉप 1 में रखा जाएगा। उसके बाद जिन सभी का प्राप्तांक होगा, उन्हें सेकंड टॉपर के रूप में घोषित किया जाएगा।

टॉप 10 तक अगर परीक्षार्थियों की संख्या ज्यादा रहेगी, जैसी संभावना है- तो संभव है कि टॉप 5 या टॉप 6 तक ही टॉपर्स की सूची जारी हो। इंटर परीक्षा में टॉप 6 की सूची जारी की गई थी।

बिहार बोर्ड को रिजल्ट देने से पहले टॉपर्स वेरिफिकेशन की प्रक्रिया करनी होती है। परिणाम की घोषणा से पहले यह अंतिम चरण है। इसके बाद टॉपर्स की एक लिस्ट बनाई जाती है, जिसमें देखा जाता है कि सबसे ज्यादा अंक पाने वाले कैंडिडेट्स कितने हैं।

बिहार बोर्ड के टॉपर को लेकर खासकर हिंदी में पूछे गए वैज्ञानिक या गणितीय टर्म को लेकर परीक्षार्थी फंसे भी। कई परीक्षार्थियों से उनके जीवन का लक्ष्य भी पूछा गया तो कई से उनके जिले या पसंदीदा विषय के बारे में भी बोलने के लिए कहा गया।

परीक्षार्थियों को टॉपर सूची में रखने या नहीं रखने के लिए करीब 100 सवालों के साथ एक्सपर्ट बैठे थे। ज्यादातर सवाल मैट्रिक परीक्षार्थियों के लिए आसान थे, हालांकि कुछ फंसाने वाले भी थे।

बिहार बोर्ड ने 10वीं का रिजल्ट जारी करने से पहले करेक्ट, क्लियर और कॉन्फिडेंट, इन तीन पैमानों पर वेरीफिकेशन किया। वेरीफिकेशन के दौरान सर्वाधिक अंक लाने वालों को बारी-बारी कर एक्सपर्ट के सामने बुलाकर परखा गया कि वह प्रश्नों के उत्तर सही दे रहे हैं या नहीं। 

Read Also:  BSEB Topper Awards 2024: अगले साल से मैट्रिक और इंटरमीडिएट के 120 टॉपर्स को सम्मानित करेगा बिहार बोर्ड, जानें कैश के अलावा और क्या मिलेगा

टॉपर्स के सत्यापन में त्रुटि से बचने के लिए बिहार बोर्ड ने रिजल्ट में टॉपर घोषित करने से पहले उम्मीदवारों के भौतिक सत्यापन की यह प्रक्रिया अपनाई है।

बिहार बोर्ड पूरी तरह से चीजों को परखकर ही टॉपरों की घोषणा करेगा। इसमें कोई फर्जी टॉपर न बन जाए, इसके लिए पिछले हफ्ते में रविवार तक सर्वाधिक नंबर वाले मैट्रिक परीक्षार्थी की उत्तर पुस्तिकाओं से हैंड राइटिंग का भौतिक सत्यापन किया गया। इसमें लिखवा कर देखा गया कि परीक्षार्थी ने किसी दूसरे को तो नहीं बैठाया था।

जब सवाल रिपीट होने लगे, तब नोट करना बंद किया गया। सामने आया कि करीब 100 सवाल घुमा-फिरा या रैंडम आधार पर पूछे गए थे।

करीब 200 परीक्षार्थियों में सबसे ज्यादा वेरीफिकेशन के लिए सुपौल, नालंदा, औरंगाबाद- इन तीन जिलों के परीक्षार्थी आए थे। इंटर परीक्षा में भी औरंगाबाद का जलवा दिखा था। 

Telegram Facebook
Twitter Facebook Group
Google NewsApp Download

Leave a comment