BPSC Teacher Recruitment Exam 2023: BPSC ने जारी किए दिशा-निर्देश, 860 परीक्षा केंद्रों पर होगी 1.70 लाख शिक्षकों की भर्ती परीक्षा

BPSC Bihar Teacher Exam 2023 में शामिल होने वाले अभ्यर्थियों के लिए एक जरूरी खबर है। 24 अगस्त 2023 से 26 अगस्त 2023 तक होने वाली BPSC Teacher Exam 2023 के लिए Bihar Public Service Commission की ओर से नोटिस जारी किया गया है, या यूं कहें कि परीक्षा से पहले आयोग की ओर से गाइडलाइन जारी की गई है, जिसका सभी अभ्यर्थियों को पालन करना होगा।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

BSEB Official Notice में परीक्षा केंद्र पर प्रवेश, एडमिट कार्ड और अन्य सामान ले जाने और कदाचार से संबंधित निर्देश शामिल हैं।

बिहार में 1.70 लाख शिक्षकों की तीन दिवसीय भर्ती परीक्षा आज से शुरू होगी, पटना के 40 परीक्षा केंद्रों समेत राज्य के सभी 38 जिला मुख्यालयों में आयोजित इस परीक्षा के लिए कुल 860 परीक्षा केंद्र बनाये गये हैं। प्राथमिक शिक्षकों (कक्षा एक से पांच) की 79943 रिक्तियों के लिए गुरुवार को 7.48 लाख आवेदक परीक्षा में शामिल होंगे।

अभ्यर्थियों को इन बातों का ध्यान रखना होगा

  • अभ्यर्थी अपने प्रवेश पत्र में अंकित छह अंकों का रोल नंबर ओएमआर शीट में निर्धारित स्थान पर लिखेंगे और किसी भी परिस्थिति में अपना पंजीकरण नंबर वहां नहीं लिखेंगे।
  • अपना नाम, रोल नंबर एवं प्रश्न पुस्तिका श्रृंखला निर्धारित स्थान पर ही लिखेंगे। रोल नंबर और बुकलेट सीरीज मार्किंग में गोले को ठीक से रंगने में विफलता पर ओएमआर शीट को अस्वीकार कर दिया जाएगा।
  • अभ्यर्थी अपनी ओएमआर शीट पर कोई पहचान चिह्न अंकित नहीं करेंगे।
  • प्रत्येक प्रश्न का उत्तर देने के लिए केवल एक ही विकल्प अंकित किया जायेगा, क्योंकि एक से अधिक विकल्प अंकित करने पर उत्तर निरस्त कर दिया जायेगा।
  • काले या नीले बॉल प्वाइंट पेन को छोड़कर व्हाइटनर, ब्लेड, इरेज़र का उपयोग प्रतिबंधित है।
  • परीक्षा केंद्र के अंदर मोबाइल, कैलकुलेटर समेत किसी भी प्रकार का इलेक्ट्रॉनिक उपकरण ले जाने की अनुमति नहीं है।
  • अभ्यर्थी सभी वांछित प्रविष्टियाँ करने के बाद उपस्थिति पत्रक में अपने हस्ताक्षर करेंगे।
  • अभ्यर्थी आधार कार्ड लाएंगे। आधार कार्ड नहीं होने की स्थिति में, अपने साथ पैन कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, पासपोर्ट जैसे अन्य फोटो पहचान प्रमाण लाएँ।

बिहार 1.70 लाख शिक्षक भर्ती परीक्षा को लेकर इस बार बीपीएससी ने विशेष सख्ती बरती है ताकि किसी भी स्तर पर कोई गड़बड़ी न हो।

परीक्षा के दौरान प्रश्न पत्र और ओएमआर शीट खोलते समय विशेष सतर्कता बरती जायेगी, परीक्षा हॉल में भी अभ्यर्थियों पर विशेष नजर रखी जायेगी। आयोग ने निर्देश दिया है कि परीक्षा हॉल में 50 प्रतिशत से कम अंक लाने वाले अभ्यर्थियों की एक अलग सूची बनाई जाएगी।

ये भी पढ़ें:  Bihar STET Dummy Admit Card: बिहार एसटीईटी सेकेंड डमी एडमिट कार्ड 2024 आज हुआ जारी, 24 जनवरी तक कर सकेंगे सुधार

इसकी निगरानी सभी परीक्षा कक्षों में वीक्षकों द्वारा की जाएगी। इसके लिए आयोग द्वारा सभी परीक्षा केन्द्रों पर वॉच लिस्ट प्रारूप उपलब्ध करा दिये गये हैं। इसके तहत फॉर्म 19 के कॉलम एक में ऐसे अभ्यर्थियों का रोल नंबर लिखना होगा, जिनकी ओएमआर शीट पर 50 प्रतिशत से कम गोला है।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

BPSC ने जारी किए दिशा-निर्देश

  • पहली पाली में सुबह 7.30 बजे से और दूसरी पाली में दोपहर 1.00 बजे से अभ्यर्थियों को परीक्षा केंद्रों पर प्रवेश दिया जाएगा, परीक्षा शुरू होने से 1 घंटा पहले किसी भी अभ्यर्थी को प्रवेश की अनुमति नहीं दी जाएगी।
  • उम्मीदवारों को अपने साथ एक वैध फोटो पहचान पत्र लाना होगा।
  • कदाचार के मामले में उन्हें इस परीक्षा के साथ-साथ अगले 5 वर्षों के लिए बिहार लोक सेवा आयोग की परीक्षाओं से और परीक्षा से संबंधित भ्रामक/सनसनीखेज अफवाह फैलाने के मामले में 3 साल के लिए प्रतिबंधित कर दिया जाएगा।
  • अभ्यर्थियों को दोनों पालियों में अपने प्रवेश पत्र की एक अतिरिक्त प्रति ले जानी होगी, जिसे परीक्षक को देना होगा।
  • मार्कर, सफेद तरल पदार्थ, ब्लेड, इरेज़र, मोबाइल फोन, ब्लूटूथ, वाई-फाई गैजेट, इलेक्ट्रॉनिक पेन, पेन, स्मार्ट वॉच आदि प्रतिबंधित हैं। यदि ये वस्तुएं पाई जाती हैं तो इसे अनुचित साधन (Unfair Means, UFM) माना जाएगा।
  • एडमिट कार्ड के साथ ओएमआर शीट पर दिए गए क्यूआर कोड की भी होगी स्कैनिंग।
  • कदाचार रोकने को फिंगर प्रिंट के साथ ही फेस कैप्चरिंग से भी होगी जांच।

24 अगस्त 2023 को होने वाली परीक्षा के लिए ओएमआर शीट आठ सेटों में उपलब्ध होंगी। पहली पाली में चार सेट ए, बी, सी और डी और दूसरी पाली में ई, एफ, जी और एच सेट होंगे। पहली पाली की ओएमआर शीट नारंगी और दूसरी पाली की ओएमआर शीट पीली होगी।

केंद्र पर अतिरिक्त ई-एडमिट कार्ड ले जाना होगा

स्कूल शिक्षक भर्ती परीक्षा के अभ्यर्थियों को अतिरिक्त ई-एडमिट कार्ड के साथ केंद्रों पर जाना होगा। बीपीएससी ने यह निर्देश दिया है।

अभ्यर्थियों को एक घंटे पहले तक केंद्र पर प्रवेश मिलेगा, अभ्यर्थी ढाई घंटे पहले केंद्र पर पहुंच सकते हैं। पहली पाली में सुबह 9 बजे के बाद प्रवेश की अनुमति नहीं होगी।

गड़बड़ी रोकने के लिए फिंगर प्रिंट के साथ-साथ फेस कैप्चरिंग भी की जाएगी। कदाचार करते पकड़े जाने पर पांच साल तक आयोग की परीक्षा में शामिल नहीं हो सकेंगे, इस बार आयोग और प्रशासन परीक्षा की लाइव मॉनिटरिंग करेगा। इस बार सभी केंद्रों पर मोबाइल जैमर लगाए जा रहे हैं। किसी भी अभ्यर्थी को कक्ष में मोबाइल, कैलकुलेटर, ब्लूटूथ ले जाने की अनुमति नहीं होगी।

प्रश्न पत्र पर निर्देशों के बावजूद नेगेटिव मार्किं लागू नहीं होगा

परीक्षा में नेगेटिव मार्किंग खत्म कर दी गई है, बीपीएससी के चेयरमैन अतुल प्रसाद ने कहा है कि पहले हमने नेगेटिव मार्किंग लागू करने का फैसला किया था और अब तक प्रश्नपत्र छप चुके हैं। अत: उन पर नेगेटिव मार्किंग होती है, यह अनुदेश अवश्य मुद्रित करें। इसके बावजूद यह लागू नहीं होगा। गुरुवार को प्राथमिक शिक्षक के लिए विषय पेपर की परीक्षा होगी, जबकि शुक्रवार को अनिवार्य भाषा पेपर की परीक्षा होगी। इसमें प्राथमिक के साथ-साथ माध्यमिक और उच्च माध्यमिक शिक्षक अभ्यर्थी भी शामिल होंगे।

ये भी पढ़ें:  BPSC TRE 3.0 Vacancy 2024: तीसरे चरण की बिहार शिक्षक भर्ती में 86474 वैकेंसी, जानें किस कैटेगरी में कितने पद

परीक्षा तीनों दिन दो पालियों में होगी, गुरुवार और शुक्रवार को पहली सीटिंग में पुरुष और दूसरी सीटिंग में महिला उम्मीदवार शामिल होंगी। शनिवार को पहली पाली में माध्यमिक शिक्षकों के लिए जबकि दूसरी पाली में उच्च माध्यमिक शिक्षकों की नियुक्ति के लिए सामान्य अध्ययन और विषय के पेपर की परीक्षा होगी।

ओएमआर शीट को अपने सामने सील करवा लें

परीक्षा के बाद अभ्यर्थियों की ओएमआर शीट भी सील कर दी जाएगी। सील के साथ छेड़छाड़ नहीं की जा सकेगी, इसलिए प्लास्टिक बॉक्स को ताले से सील करने के बाद उस पर आयोग द्वारा उपलब्ध कराए गए विशेष जैकेटनुमा लिफाफे को भी सील कर दिया जाएगा।

बिना तोड़े ताला खोलना संभव नहीं होगा, बीपीएससी के अध्यक्ष अतुल प्रसाद ने कहा है कि अगर किसी अभ्यर्थी की ओएमआर शीट नहीं मिलती है तो यह माना जाएगा कि उसने खुद इसे परीक्षक को नहीं दिया और चुपचाप ले गया। इसे कदाचार का एक रूप माना जाएगा और इसके लिए उम्मीदवार के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

चेहरे की पहचान के साथ-साथ बायोमेट्रिक भी जरूरी

चेहरे की पहचान के साथ-साथ उम्मीदवारों के अंगूठे का निशान और आईरिस स्कैन भी बायोमेट्रिक्स के रूप में लिया जाएगा। इसके साथ ही एडमिट कार्ड का क्यूआर कोड भी स्कैन किया जाएगा।

अभ्यर्थियों को प्रतिदिन परीक्षा केंद्र पर प्रवेश पत्र की एक अतिरिक्त प्रति अपने साथ ले जानी होगी और उस पर हस्ताक्षर करने के बाद पर्यवेक्षक को सौंप देनी होगी।

परीक्षा केंद्र में प्रवेश 2:30 घंटे पहले शुरू होगा और 1 घंटे पहले बंद हो जाएगा

परीक्षा केंद्र के अंदर अभ्यर्थियों का प्रवेश परीक्षा शुरू होने से 2:30 घंटे पहले शुरू हो जाएगा और एक घंटे पहले पूरी तरह से बंद कर दिया जाएगा। सुबह 10 बजे से दोपहर 12 बजे तक होने वाली पहली पाली की परीक्षा में सुबह 7:30 बजे से परीक्षा केंद्र के अंदर अभ्यर्थियों का प्रवेश शुरू हो जाएगा और 9 बजे परीक्षा केंद्र पूरी तरह से बंद हो जाएगा।

दोपहर 3:30 बजे से शाम 5:30 बजे तक होने वाली दूसरी पाली की परीक्षा में अभ्यर्थियों का परीक्षा केंद्र में प्रवेश दोपहर 1 बजे से शुरू हो जाएगा और 2:30 बजे पूरी तरह से बंद कर दिया जाएगा।

परीक्षा केंद्र के अंदर अभ्यर्थियों की आवाजाही बंद होने के बाद प्रश्न पत्र का सीलबंद बॉक्स परीक्षा केंद्र पर भेजा जाएगा। इसका सीलबंद बॉक्स परीक्षा हॉल में ही खुलेगा। वहां से सीलबंद लिफाफे अलग-अलग परीक्षा कक्षों में ले जाए जाएंगे, जहां उन्हें परीक्षार्थियों के सामने खोला जाएगा।

परीक्षा केंद्रों के आसपास साइबर कैफे और फोटो स्टेट की दुकानें बंद रहेंगी

बीपीएस शिक्षक भर्ती परीक्षा को लेकर पटना शहर में परीक्षा केंद्रों के आसपास धारा-144 लागू रहेगी. परीक्षा केंद्रों के आसपास साइबर कैफे एवं फोटो स्टेट की दुकानें परीक्षा अवधि तक बंद रहेंगी। परीक्षा केंद्रों पर मजिस्ट्रेट व पुलिस बल की तैनाती की जायेगी।

पटना शहर में 38 परीक्षा केंद्र बनाये गये हैं, जहां करीब 27 हजार परीक्षार्थी हैं। परीक्षा केंद्रों के लिए 70 दंडाधिकारी और 400 पुलिस बल की प्रतिनियुक्ति की गयी है, जोनल मजिस्ट्रेट परीक्षा केंद्रों पर जाकर जांच करेंगे।

बीपीएससी आयोग में बना कमांड सेंटर

परीक्षा केंद्र के मुख्य गेट के साथ-साथ सभी कमरों में भी सीसीटीवी लगाया गया है. यह सर्वर के माध्यम से डिस्ट्रिक्ट कमांड एंड कंट्रोल रूम से जुड़ा है, जहां बैठकर परीक्षा केंद्र के अंदर की गतिविधियों पर नजर रखी जाएगी।

ये भी पढ़ें:  Bihar Sakshamta Pariksha में 3 बार फेल होने पर क्या होगा, केके पाठक द्वारा उठाया गया ये कदम

बीपीएससी में एक अत्याधुनिक कमांड एंड कंट्रोल सेंटर भी बनाया गया है, जहां कई अधिकारी और ऑपरेटर एक साथ पटना के 38 परीक्षा केंद्रों के साथ-साथ राज्य के अन्य परीक्षा केंद्रों की स्थिति देख सकेंगे। परीक्षा के दौरान मीडिया कर्मी भी वहां परीक्षा केंद्र के अंदर की गतिविधियों को देख सकेंगे।

परीक्षा केंद्रों पर सीसीटीवी से निगरानी की जाएगी

Bihar School Examination Board BPSC Exam 2023 की निगरानी जिला नियंत्रण कक्ष से की जायेगी। परीक्षा केंद्रों पर सीसीटीवी से निगरानी की जाएगी। इसके अलावा जाम पर नजर रखने और यातायात को सुचारू रूप से चलाने के लिए तीन डीएसपी, 15 रेगुलेशन टीम, सेक्टर प्रभारी और उनकी टीम तैनात रहेगी।

खासकर कारगिल चौक, अशोक राजपथ, स्टेशन गोलंबर, राजेंद्र नगर टर्मिनल, कदमकुआं आदि जिन इलाकों में जाम लगने की ज्यादा संभावना है, वहां अतिरिक्त पुलिस बल की तैनाती की जायेगी।

38.56 फीसदी आवेदक बिहार के बाहर से

शनिवार तक चलने वाली इस तीन दिवसीय भर्ती परीक्षा में कुल 8.10 लाख आवेदक शामिल होंगे, जिनमें माध्यमिक शिक्षकों (कक्षा IX और 10वीं) की 34916 रिक्तियों के लिए 65500 आवेदक और वरिष्ठ माध्यमिक शिक्षकों (कक्षा 11वीं और 10वीं) की 57602 रिक्तियों के लिए 39680 आवेदक शामिल हैं। 12वीं) शामिल हैं।

प्राथमिक शिक्षक के पद पर नियुक्ति के लिए रिक्तियों की संख्या से 9.36 गुना और माध्यमिक शिक्षक के लिए 1.87 गुना आवेदन किये गये, जबकि उच्च माध्यमिक शिक्षक पद के लिए रिक्तियों की तुलना में केवल 68 प्रतिशत आवेदन किये गये. आवेदकों में 312560 बिहार के बाहर के हैं, जो कुल आवेदकों का 38.56 प्रतिशत है।

WhatsappTelegram
TwitterFacebook
Google NewsBSEB App

Leave a comment