बिहार बोर्ड 10वीं के टॉपर्स की कॉपियों का मूल्यांकन शुरू, बहुत जल्द जारी होगा रिजल्ट

बिहार विद्यालय परीक्षा समिति द्वारा 10वीं परीक्षा 2022 कॉपी चेकिंग खत्म होने के साथ ही टॉपर्स की कॉपियों की जांच का सिलसिला शुरू हो गया है. आपको बता दें की, बिहार बोर्ड मैट्रिक की कॉपियों की जांच पूरी हो चुकी है। इसके साथ ही टॉपर्स की कॉपियों की जांच का सिलसिला भी शुरू हो गया है. बिहार विद्यालय परीक्षा समिति ने भी मुजफ्फरपुर समेत सभी जिलों के डीईओ और मूल्यांकन केंद्र निदेशकों को इस संबंध में निर्देश जारी किया है. बोर्ड द्वारा चयनित अधिकारियों की टीम गुरुवार को जिले में पहुंचेगी। बोर्ड द्वारा निर्धारित बारकोड के अनुसार सभी केंद्रों पर प्रतियां एकत्र की जाएंगी। इसके साथ ही बोर्ड जिले के सभी परीक्षार्थियों की 30 से अधिक विभिन्न विषयों की मैट्रिक की कॉपियों की जांच करेगा.

बिहार बोर्ड मेट्रिक क्लास टॉपर्स की कॉपियों की जांच के बाद बोर्ड जल्द ही परिणाम की तारीख की घोषणा कर सकता है। बताया जा रहा है कि बोर्ड की ओर से 31 मार्च 2022 को रिजल्ट जारी किया जा सकता है, लेकिन आपको ये भी बता दें की, बिहार बोर्ड ने अभी इस बारे में कोई पुष्टि नहीं की है.

बिहार बोर्ड की टीम ने सभी केंद्रों के लिए निर्धारित बारकोड के अनुसार कॉपी उपलब्ध कराने के निर्देश जारी किए हैं. सभी मूल्यांकन केंद्र निदेशकों को अधिकारियों की टीम के आने तक सुबह 10 बजे से केंद्र पर मौजूद रहने के निर्देश दिए गए हैं.

बिहार बोर्ड अपने स्तर पर करेगा टॉपर्स की कॉपियों की जांच

मुजफ्फरपुर जिले के छह केंद्रों पर मैट्रिक की कॉपियों की जांच की गई है। बीएसईबी ने सभी केंद्रों से चेक की हुई कॉपियां मंगाई हैं। जिला डीईओ अब्दुल सलाम अंसारी ने बताया कि बोर्ड की ओर से कुछ कॉपियों के बारकोड सभी मूल्यांकन केंद्र निदेशकों को भेज दिए गए हैं. बोर्ड ने निदेशकों से किसी भी रूप में प्रासंगिक बारकोड का खुलासा नहीं करने का अनुरोध किया है। शिक्षकों के मुताबिक ये कॉपियां टॉपर्स की हैं, जिनकी जांच बिहार बोर्ड अपने स्तर पर भी करेगा.

बिहार बोर्ड ने 5 मार्च 2022 से मैट्रिक की कॉपियों की स्क्रूटनी शुरू की थी। वहीं, 14 मार्च 2022 तक सभी मूल्यांकन केंद्रों पर कॉपियों का सत्यापन पूरा हो गया था। जिले के कुल छह मूल्यांकन केंद्रों पर कॉपियों की जांच की गई। बिहार बोर्ड की ओर से सभी केंद्रों पर करीब 50 से 65 हजार नंबर कॉपियों की जांच के लिए भेजे गए थे. इसमें ढाई लाख से ज्यादा कॉपियां चेक की जा चुकी हैं।

बिना जांचे किये भी भेजी गई कॉपियां

बिहार बोर्ड मैट्रिक की कॉपियों का सत्यापन पूरा हो चुका है, लेकिन बीएसइबी बोर्ड ने कहा कि जिले के एक मूल्यांकन केंद्र द्वारा कुछ छात्रों की कॉपियां बिना जांचे ही भेज दी गई हैं, जो की हिंदी कॉपी थी।

वार्षिक परीक्षा 17 से 24 फरवरी तक आयोजित की गई थी

बता दें कि बिहार बोर्ड 10वीं की परीक्षाएं 17 फरवरी से 24 फरवरी 2022 के बीच हुई थीं. इस परीक्षा के लिए करीब 17 लाख छात्रों ने रजिस्ट्रेशन कराया था. परीक्षा दो पालियों में सुबह 9.30 बजे से दोपहर 12.45 बजे तक और दूसरी पाली दोपहर 1.45 से शाम 5 बजे तक आयोजित की गई थी।

ये भी पढ़ें:   BSEB Inter Scrutiny 2022 Form Online Apply Copy Rechecking

देश में टॉपर्स का री-वेरिफिकेशन सिर्फ बिहार बोर्ड करता है

बिहार से बाहर बहुत कम लोगों को पता होगा कि बोर्ड रिजल्ट से पहले न सिर्फ अपने टॉपर्स की कॉपियों की दोबारा जांच करता है, बल्कि उनकी मेरिट का फिजिकल वेरिफिकेशन भी करता है. खास बात यह है कि ऐसा करने वाला बिहार बोर्ड देश का एकमात्र स्कूली शिक्षा बोर्ड है। इस साल भी यह प्रक्रिया अब शुरू हो चुकी हैं।

Leave a comment