WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

KK Pathak News: केके पाठक के इन 10 कड़े फैसले जिनसे बिहार की शिक्षा व्यवस्था में होने लगा सुधार

KK Pathak News, Additional Chief Secretary of Bihar Education Department के सख्त रवैये का असर नवनियुक्त और पुराने शिक्षकों के साथ-साथ अभिभावकों पर भी देखने को मिल रहा है। केके पाठक कब किस स्कूल में निरीक्षण के लिए पहुंच जायेंगे, कोई नहीं जानता।

वे किसी भी जिले के किसी भी स्कूल पर अचानक हमला कर देते हैं, प्रधानाध्यापक से लेकर शिक्षक तक प्रबंधन का पाठ पढ़ाते हैं। कभी-कभी गुस्से में वह कठोर शब्दों का प्रयोग भी कर देते हैं, खासकर मध्याह्न भोजन और बच्चों की उपस्थिति को लेकर वह और भी सजग हैं। उनके आदेश के बाद सरकारी स्कूलों में अनुपस्थित रहने वाले लाखों बच्चों के नाम काट दिये गये हैं।

आज हम आपको बताएंगे कि केके पाठक के वो कौन से 10 कड़े फैसले हैं जिनकी वजह से बिहार की शिक्षा व्यवस्था पटरी पर लौटने लगी है।

What's In This Post?

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

1. KK Pathak News लगातार 15 दिन से अधिक स्कूल से अनुपस्थित रहने पर नाम काटने का आदेश

केके पाठक के आदेश पर अब स्कूल में 15 दिन से अधिक अनुपस्थित रहने पर नाम काटने के आदेश दिए गए हैं। अब तक 20 लाख से ज्यादा बच्चों के नाम काटे जा चुके हैं, इस कार्रवाई के बाद बच्चों में अनुपस्थिति कम हो गयी है।

2. सभी स्कूलों में 75 फीसदी उपस्थिति अनिवार्य है

केके पाठक ने बिहार सरकार के सभी स्कूलों में 75 फीसदी उपस्थिति अनिवार्य कर दी है, इससे बाहर कोचिंग कर रहे छात्र घर लौटने लगे फिर अब स्कूलों में छात्रों की उपस्थिति बढ़ने लगी है। हालांकि, कुछ जगहों पर इसका विरोध भी देखने को मिल रहा है।

3. बिना बताए स्कूल से गायब रहने वाले शिक्षकों का वेतन काटा जायेगा

बिना सूचना के स्कूल से गायब रहने वाले शिक्षकों का वेतन काटा जा रहा है, इसके साथ ही इन शिक्षकों को कारण बताओ नोटिस भी जारी किया जा रहा है कि वे बिना सूचना के स्कूल क्यों नहीं आ रहे हैं।

4. गांव में ही पढ़ाना होगा

कुछ दिन पहले केके पाठक ने सभी नवनियुक्त बीपीएससी शिक्षकों से कहा था कि आपने अपनी योग्यता साबित कर दी है, अब गांव के बच्चों को आगे बढ़ना होगा। आपको गाँव में ही पढ़ाना होगा, यह उन लोगों के लिए नौकरी नहीं है जिन्हें गाँव में पढ़ाना पसंद नहीं है।

5. केके पाठक के आदेश पर शुरू हुआ ‘मिशन दक्ष’

KK Pathak News के आदेश पर मिशन दक्ष की शुरुआत की गई है, इसके तहत 10 हजार शिक्षकों को 50 हजार ऐसे बच्चों को गोद लेना है जो पढ़ाई में कमजोर हैं। इसमें हाईस्कूल के 10वीं और 12वीं कक्षा के सभी शिक्षकों को शामिल किया गया है।

उन्हें अपने स्कूल के नजदीक किसी प्राइमरी या मिडिल स्कूल से बच्चों को गोद लेना होगा। इन शिक्षकों को क्लास के बाद या दोपहर में स्कूल में इन बच्चों को पढ़ाने और आगे बढ़ाने के लिए कुछ समय निकालना पड़ता है, मिशन दक्ष अभियान शुरू हो गया है।

6. विकास निधि में जमा राशि को विद्यालय विकास कार्यों में खर्च करने का आदेश

KK Pathak News ने आदेश देते हुए कहा है कि स्कूलों में छात्र कोष एवं विकास कोष में जमा 1200 करोड़ रुपये की राशि खर्च नहीं होने पर उसे वापस सरकारी खजाने में जमा कर दिया जायेगा, उन्होंने कहा कि यह आखिरी विस्तार है क्योंकि शिक्षा विभाग ने पहले ही संबंधित राशि खर्च करने का निर्देश दे दिया है।

7. शिक्षकों के स्थानांतरण एवं प्रतिनियुक्ति पर रोक

KK Pathak News ने शिक्षकों के स्थानांतरण व प्रतिनियुक्ति पर रोक लगाकर लापरवाह शिक्षकों के मंसूबों पर पानी फेर दिया।

माध्यमिक शिक्षा निदेशक कन्हैया प्रसाद श्रीवास्तव के मुताबिक आरडीडीई और डीईओ कार्यालय से बड़ी संख्या में शिक्षकों का स्थानांतरण और प्रतिनियोजन किया जाता है, जिससे स्कूलों में शिक्षण और कार्यालय कार्य बुरी तरह प्रभावित होता है।

8. बच्चों को जमीन पर न पढ़ाने की चेतावनी

KK Pathak News अगर किसी स्कूल में बच्चों को फर्श पर पढ़ते देखते हैं तो इसके लिए हेडमास्टर को फटकार लगाते हैं और जल्द से जल्द बेंच-डेस्क की व्यवस्था करने को कहते हैं। bihar teacher recruitment exam released

9. छुट्टियों पर रोक लगाकर

केके पाठक ने बिहार में शिक्षकों का पत्ता काटकर कड़ा संदेश दिया है. त्योहारों पर स्कूलों में 23 छुट्टियां थीं जिन्हें घटाकर 11 कर दिया गया। रक्षा बंधन की छुट्टी खत्म कर दी गई, इस मामले पर खूब राजनीति भी हुई थी।

10. शौचालय का खासा ध्यान

किसी भी विद्यालय में शौचालय में गंदगी मिलने पर केके पाठक ने प्रधानाध्यापक को कड़ी चेतावनी दी। इतना ही नहीं, वह स्कूल में किसी भी तरह की कुव्यवस्था बर्दाश्त नहीं कर रहे हैं।

Leave a comment