Bihar Education Department: बिहार के सभी सरकारी स्कूलों की निगरानी होगी और सख्त, बिहार शिक्षा विभाग ने जारी किये दिशा-निर्देश

Bihar Education Department बिहार में चल रही शिक्षा योजनाओं के साथ-साथ राज्य भर के सभी स्कूलों की निगरानी और सख्त हो जाएगी। इसके लिए जल्द ही जिला और ब्लॉक स्तर पर प्रोजेक्ट मैनेजमेंट यूनिट काम करना शुरू कर देगी। इसी क्रम में जिलों में जिला कार्यक्रम प्रबंधकों की तैनाती शुरू हो गई है। करीब 50 फीसदी जिलों में इनकी तैनाती हो चुकी है, बाकी जगहों के लिए प्रक्रिया तेजी से चल रही है।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Bihar Education Department के अपर मुख्य सचिव केके पाठक ने जुलाई के अंतिम सप्ताह में इन इकाइयों के गठन का निर्देश दिया था, इसके बाद मैनेजरों के चयन की प्रक्रिया शुरू की गयी। वहीं, जिला व प्रखंड में पहले से कार्यरत कुछ कर्मियों को भी इस टीम में रखा जायेगा।

यह टीम जिला स्तर पर होने वाले कार्यों में भी अधिकारियों की मदद करेगी, वे निगरानी और निरीक्षण से संबंधित डेटा को अपडेट करने के लिए भी जिम्मेदार होंगे। मालूम हो कि विभाग का मुख्य फोकस स्कूलों के निरीक्षण पर है। स्कूल में छात्रों और शिक्षकों की उपस्थिति से लेकर सरकार द्वारा दी जा रही सुविधाओं तक की स्थिति की रोजाना समीक्षा की जा रही है।

Bihar Education Department | बिहार के सभी सरकारी स्कूलों की निगरानी होगी और सख्त

प्रतिदिन 30 से 35 हजार Bihar School Examination Board | Bihar Education Department के स्कूलों का निरीक्षण किया जा रहा है, निरीक्षण आख्या उसी दिन जिला स्तर पर उपलब्ध करा दी जाती है। वहीं, एक दिन बाद यह रिपोर्ट विभाग में गठित सेल तक पहुंचती है। रिपोर्ट में जिले यह भी बताते हैं कि निरीक्षण में क्या कमियां मिलीं और उनके खिलाफ क्या कार्रवाई की गई।

इन कार्यों को और अधिक प्रभावी बनाने में जिला एवं ब्लॉक की परियोजना प्रबंधन इकाई की भी विशेष भूमिका होगी। जिला स्तर पर बनने वाली प्रोजेक्ट मैनेजमेंट यूनिट में मैनेजर के अलावा प्रोग्रामर, अकाउंटिंग एक्सपर्ट और अकाउंटिंग असिस्टेंट होंगे। वहीं, ब्लॉक प्रोजेक्ट मैनेजमेंट यूनिट में मैनेजर के अलावा डाटा एंट्री ऑपरेटर, अकाउंटिंग असिस्टेंट, कंप्यूटर ऑपरेटर और ब्लॉक रिसोर्स सर्विस होंगे। BSEB 10th Exam 2025 Registration

स्कूलों में प्रतिदिन नीलामी की रिपोर्ट आएगी

अब प्राथमिक से लेकर उच्च माध्यमिक तक के स्कूलों में पड़ी अनुपयोगी सामग्री की नीलामी की रिपोर्ट हर दिन शिक्षा विभाग के पास आएगी। इसको लेकर विभाग ने जिलों को दिशा-निर्देश जारी कर दिये हैं, विभाग ने कहा है कि नीलामी से स्कूल को मिली राशि भी रिपोर्ट में दर्ज की जाये।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

इस कार्य की मॉनिटरिंग की जिम्मेदारी जिला शिक्षा पदाधिकारियों को दी गयी है, ताकि सभी BSEB Bihar Board के स्कूलों में ऐसे सामानों की नीलामी जल्द से जल्द पूरी की जा सके। जिलों में तैनात होने लगे जिला कार्यक्रम प्रबंधक, हर जिले और ब्लॉक में बनेगी प्रबंधन इकाई, अधिकारियों का करेंगे सहयोग।

ये भी पढ़ें:  BSEB Class 11th Registration Last Date: बिहार बोर्ड इंटर परीक्षा 2025 के लिए रजिस्ट्रेशन की बढ़ाई गई तारीख, छात्रों को इस डेट तक मौका
WhatsappTelegram
TwitterFacebook
Google NewsBSEB App

Leave a comment