Education Department News: शिक्षा विभाग का नया आदेश कॉलेज प्रोफेसरों को रास नहीं आ रहा, यूजीसी के नियमों का हवाला दिया

Education Department News, वीर कुँवर सिंह विश्वविद्यालय के शिक्षकों ने एक दिन में पाँच कक्षाएँ संचालित नहीं करने वाले प्रोफेसरों का एक दिन का वेतन रोकने के फैसले पर नाराजगी व्यक्त की है।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

शिक्षक संघ ने शिक्षा विभाग को सलाह दी है कि विश्वविद्यालय के साथ स्कूल की तरह व्यवहार न किया जाये. कॉलेज शिक्षक विश्वविद्यालय सेवा आयोग के निर्देशों का पालन करें।

वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय सेवा शिक्षक संघ (भाकुस्टा) के अध्यक्ष प्रो दिवाकर पांडे ने कहा कि शिक्षा विभाग को पांच घंटे तक कॉलेज परिसर में रहने का मतलब समझ में नहीं आया है. पांच घंटे का मतलब पांच कक्षाएं नहीं है, बल्कि इसे कक्षाएं संचालित करने के अलावा पुस्तकालय, शोध, सेमिनार आदि में खर्च करना होता है।

उन्होंने कहा कि यूजीसी के अनुसार, कॉलेज के एसोसिएट प्रोफेसर और प्रोफेसर को 14 कक्षाएं संचालित करनी होती हैं और सहायक प्रोफेसर को एक सप्ताह में 16 कक्षाएं संचालित करने के लिए।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

भकुटा ने पहले के प्रावधानों का हवाला दिया, Education Department News

बीकेयूटीए अध्यक्ष प्रो.कन्हैया बहादुर सिन्हा ने कहा कि 29 जून 2005 को राज्य सरकार की अनुशंसा पर कुलाधिपति ने सरकारी पत्रांक 995 दिनांक 28 मई 2005 के आधार पर कार्यभार संविधि पर सहमति दी थी, ये वैधानिक प्रावधान अब भी यथास्थान रहो। जिसमें हालिया नियम 2010 और 2018 भी शामिल हैं।

उन्होंने कहा कि यूजीसी ने क़ानून और यूजीसी विनियमों के अनुसार प्रति वर्ष 52 सप्ताह के कार्य भार को अच्छी तरह से परिभाषित किया है। यह शिक्षण के लिए 30 सप्ताह, नामांकन, परीक्षा और पाठ्येतर गतिविधियों जैसे खेल, कॉलेज के दिन आदि के लिए 12 सप्ताह, व्यवसाय के लिए आठ से 10 सप्ताह और सार्वजनिक छुट्टियों के लिए दो सप्ताह निर्धारित करता है।

आगे ये भी कहा

उन्होंने कहा कि शिक्षक प्रतिदिन पांच घंटे रुकेंगे, जिसमें से दो घंटे सामुदायिक कार्य और पाठ्येतर गतिविधियों या पुस्तकालय अध्ययन और अनुसंधान के लिए छात्रों के साथ बातचीत के लिए समर्पित होंगे। असिस्टेंट प्रोफेसर के लिए प्रति सप्ताह 16 घंटे और एसोसिएट प्रोफेसर व प्रोफेसर के लिए 14 घंटे की पढ़ाई होगी। BPSC Bihar Teacher Bharti

अध्ययन सामग्री/व्याख्यान की तैयारी और अन्य शैक्षणिक गतिविधियों के लिए प्रति सप्ताह दस घंटे आवंटित किए जाते हैं। इस प्रकार प्रति सप्ताह 40 घंटे होते हैं।

उन्होंने तीन दिनों तक अनुपस्थित रहने वाले छात्रों से स्पष्टीकरण मांगने और उनका नाम काटने के निर्देश को अव्यवहारिक बताया है।

WhatsappTelegram
TwitterFacebook
Google NewsBSEB App

Leave a comment