Bihar Education News & Ready in Government School: सरकारी स्कूलों में 45 मिनट में तैयार होंगे ‘सुपर स्टूडेंट्स’, शुरू हो रहा केके पाठक का नया ‘लक्ष्य’

1 दिसंबर 2023 से राज्य के सभी सरकारी स्कूलों में मिशन दक्ष शुरू हो गया है, यह Ready in Government School , KK Pathak का मिशन है जिसमें जो बच्चे पढ़ने में कमजोर हैं उन्हें अलग से पढ़ाया जाएगा और उनकी परीक्षा भी अलग से ली जाएगी। समझ लीजिए कि बिहार के लाखों बच्चों के लिए विशेष कक्षाएं चलाई जाएंगी जो मिशन दक्ष के तहत होंगी।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

इतना ही नहीं, इन छात्रों के लिए एक विशेष परीक्षा कैलेंडर भी होगा। उन्हें हर दिन अलग से 45 मिनट का समय दिया जाएगा। इन 45 मिनट के दौरान शिक्षक सिर्फ इन कमजोर बच्चों पर ही फोकस करेंगे। वे यह भी पता लगाएंगे कि बच्चा पढ़ाई में क्यों पिछड़ गया।

कारण का पता लगाकर बच्चे की समस्या का समाधान किया जाएगा और बच्चे की शिक्षा में सुधार किया जाएगा। इस 45 मिनट में उनका विशेष अध्ययन किया जाएगा और फिर उनकी अलग से जांच की जाएगी, मिशन दक्ष के लिए ही बिहार के सरकारी स्कूलों को ऐसे छात्रों की सूची तैयार करने का आदेश दिया गया था जो पढ़ाई में कमजोर हैं। इसके तहत प्रत्येक कक्षा से 5 बच्चों का चयन किया गया।

What's In This Post?

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

इस महीने से बिहार के Ready in Government School में केके पाठक का खास मिशन

मिशन दक्ष के लिए स्कूलों में विशेष समय भी तय किया गया है, Bihar School Examination Board (Ready in Government School) के स्कूल बंद होते ही कमजोर बच्चों के लिए विशेष कक्षाएं शुरू होंगी। यह विशेष कक्षा प्रतिदिन दोपहर 3:30 बजे से शाम 4:15 बजे तक चलेगी, इसमें वे बच्चे शामिल होंगे जो अपनी किताबें ठीक से नहीं पढ़ पाते। चाहे वह हिंदी हो या गणित। मिशन दक्ष में इन छात्रों के लिए 15 मार्च 2024 तक की समय सीमा तय की गई है।

यानी इस महीने तक इन्हें पढ़ाई में अच्छा बनाना इनकी जिम्मेदारी है। अगर ये बच्चे विशेष परीक्षा पास नहीं कर पाते हैं तो प्रिंसिपल को कार्रवाई करनी पड़ सकती है, क्योंकि संबंधित शिक्षक के साथ-साथ शिक्षा विभाग भी इनके खिलाफ कार्रवाई करेगा।

ये हैं केके पाठक का आदेश

इसको लेकर Additional Chief Secretary of Bihar Education Department KK Pathak ने सभी जिलों के अधिकारियों को पत्र लिखा था। इसमें मिशन दक्ष चलाने के भी विशेष निर्देश दिए गए हैं, इसके लिए जिला अधिकारियों की अध्यक्षता में एक कमेटी भी बनाई गई है।

केके पाठक का आदेश है कि हर शिक्षक को कम से कम 5 बच्चों को पढ़ाना होगा, उन्हें शैक्षणिक रूप से कमजोर बच्चों को गोद लेना होगा। इन BSEB Bihar Board के बच्चों को पढ़ाई में तेज बनाने की जिम्मेदारी इन शिक्षकों की होगी। Bihar Education Department

WhatsappTelegram
TwitterFacebook
Google NewsBSEB App

Leave a comment