बिहार बोर्ड परीक्षा का प्रश्न पत्र का क्रमांक छोड़ा तो मिलेगा जीरो अंक

Sponsored Links

बिहार बोर्ड मैट्रिक की वार्षिक परीक्षा 17 फरवरी 2022 से 24 फरवरी 2022 तक चलेगी। अगर आप बिहार बोर्ड मैट्रिक के छात्र हैं और इस परीक्षा में शामिल हो रहे हैं तो आपके लिए परीक्षा से जुड़ी यह जानकारी होना बेहद जरूरी है।

सबसे पहले कदाचार की बात करते हैं, कदाचार की जांच में कदाचार को रोकने के लिए कड़े इंतजाम किए गए हैं। बिहार बोर्ड की मैट्रिक वार्षिक परीक्षा 2022 में शिक्षक दूसरे स्कूलों में जाकर राज्य भर के शिक्षकों को बेतरतीब ढंग से ड्यूटी देंगे। बिहार बोर्ड के अनुसार प्रदेश भर से 50 हजार से अधिक शिक्षकों को परीक्षक बनाया गया है, हर जिला शिक्षा कार्यालय ने बेहतरीन तरीके से शिक्षकों की सूची निकाली है. इसी के आधार पर शिक्षकों को परीक्षा केंद्रों पर ड्यूटी दी गई है।

मैट्रिक की परीक्षा को लेकर बिहार विद्यालय परीक्षा समिति की ओर से सभी छात्रों के लिए एक बेहद जरूरी गाइडलाइन जारी की गई है. मैट्रिक वार्षिक परीक्षा में, ओएमआर शीट और उत्तर पत्रक में सभी उम्मीदवारों की तस्वीर होगी। अगर आप मैट्रिक की वार्षिक परीक्षा में बैठने वाले बिहार बोर्ड के छात्र हैं तो आपको इस लेख को एक बार ध्यान से पढ़ना होगा।

बिहार बोर्ड प्रश्न पत्र के क्रमांक को छोड़ देने पर शून्य अंक मिलेंगे

बिहार बोर्ड समिति की ओर से कहा गया है कि सभी छात्र अपने एडमिट कार्ड पत्र और उत्तर पत्रक पर दिए गए विवरण का एक बार मिलान अवश्य कर लें, जो उत्तर पत्र निरीक्षक द्वारा आपको दिया जा रहा है। एग्जाम में बैठने वाले छात्र अपनी उत्तर-पुस्तिका के मकबरे के बाएँ भाग में अभ्यर्थी केवल विषय का नाम और उत्तर देने का माध्यम ही लिखेंगे। साथ ही दिए गए बॉक्स में आपको मिलने वाले प्रश्न पत्र का सेट कोड लिखें और सर्कल को सेट कोड से भरें। बिहार बोर्ड के आधिकारिक नोटिस में कहा गया है, कि जो अभ्यर्थी उत्तर पुस्तिका पर प्रश्नपत्र का क्रमांक नहीं भरेंगे, उस विषय की उत्तर पुस्तिका की जांच नहीं की जाएगी। और साथ ही ऐसे प्रश्न के लिए परीक्षार्थी को उस विषय में शून्य अंक दिए जा सकते हैं।

सभी परीक्षार्थियों को कोई अतिरिक्त प्रति नहीं दी जाएगी।

बिहार विद्यालय परीक्षा समिति की ओर से ये भी बताया गया है, कि किसी भी छात्र को एक भी अतिरिक्त कॉपी एग्जाम के वक़्त नहीं दी जाएगी और साथ ही यह भी कहा गया है कि जिस छात्र का डाटा ओएमआर शीट से नहीं मिलेगा वह भी परीक्षा दे सकेगा।

बिहार बोर्ड वार्षिक परीक्षा में सैद्धान्तिक परीक्षा के 50 प्रतिशत का उत्तर उत्तर पुस्तिका में तथा 50 प्रतिशत वस्तुनिष्ठ प्रश्नों का उत्तर ओएमआर शीट पर देना होता है। किसी भी परीक्षार्थियों को कोई भी अतिरिक्त उत्तर पुस्तिका नहीं दी जाएगी। सभी प्रश्नों के उत्तर के अंत में, छात्रों को पूरी उत्तर पुस्तिका में सबसे नीचे एक क्षैतिज रेखा खींचनी चाहिए। अपना नाम, रोल कोड, रोल नंबर, स्कूल का नाम और परीक्षा का स्थान किसी भी जगह या किसी भी उत्तर में न लिखें। गोल घेरा को रंगने के लिए केवल नीले या काले काले पेन का ही प्रयोग करें। व्हाइटनर, कील, स्याही, रबड़, ब्लेड आदि का प्रयोग पूर्ण रूप से एग्जाम में उपयोग करना वर्जित है।

ये भी पढ़ें:   बिहार बोर्ड इंटर परीक्षा की डमी रजिस्ट्रेशन कार्ड में 22 अगस्त 2022 तक करा सकेंगे सुधार

कोई भी छात्र गलती से भी इनमें से किसी भी चीज का उपयोग करते हैं, उनका परिणाम अवहेलना माना जाएगा। वार्षिक सैद्धांतिक परीक्षा 2022 में परीक्षा का प्रश्न पत्र 10 सेट में होगा, सेट A से J तक जिन अभ्यर्थियों का डाटा उत्तर पत्रक और ओएमआर शीट से नहीं मिल रहा है, उस दौरान ओएमआर उत्तर पत्रक का 5% परीक्षा केन्द्रों पर सदैव उपलब्ध करायी जायेगी परीक्षार्थी को परीक्षा केन्द्र के केन्द्र अधीक्षक को ओ0एम0आर0 शीट उपलब्ध कराकर परीक्षा में सम्मिलित किया जायेगा।

एक बेंच पर बैठेंगे दो छात्र

बिहार बोर्ड द्वारा परीक्षा केंद्र में दो परीक्षार्थियों के एक ही बेंच पर बैठने की व्यवस्था की जाएगी, ताकि शारीरिक दूरी के नियम का पालन किया जा सके। यदि किसी स्कुल/कॉलेज में पर्याप्त संख्या में कमरे उपलब्ध न हों तो बरामदे में परीक्षार्थियों के बैठने की व्यवस्था की जा सकती है। इसके अलावा छात्रों को पंडाल लगाकर भी बाहर बैठकर एग्जाम लिया जा सकता है।

बिना माक्स का परीक्षा केंद्र प्रवेश नहीं दिया जाएगा

बिहार बोर्ड 10वीं के सभी छात्रों को बिना अंकों के परीक्षा केंद्र में प्रवेश करने की अनुमति नहीं दी जाएगी। मैट्रिक में सभी छात्रों को मास्क लगाकर आना अनिवार्य होगा, परीक्षा केंद्र पर हैंडवॉश सेंटर की व्यवस्था शुरू से पहले की जाएगी परीक्षा के लिए, सभी परीक्षा हॉल सेंट्रीफ्यूज किए जाएंगे।

हर केन्द्र पर 5 प्रतिशत अधिक होगा मास्क

इस संबंध में बिहार विद्यालय परीक्षा समिति के सचिव ने सभी जिला शिक्षा अधिकारियों को परीक्षा केंद्रों पर कोरोना दिशा-निर्देशों का कड़ाई से पालन करने का निर्देश दिया हैं। बिहार बोर्ड ने वार्षिक परीक्षा के लिए गाइडलाइंस जारी कर दी है। BSEB बोर्ड ने परीक्षा केंद्र अधीक्षकों को प्रत्येक परीक्षा केंद्र पर कुल परीक्षार्थियों की संख्या से पांच प्रतिशत अधिक मास्क की व्यवस्था करने का निर्देश दिया है। यदि कोई छात्र मास्क पहनकर नहीं आता है, तो उसे स्कूल द्वारा उपलब्ध कराया जाएगा। इसके अलावा परीक्षा शुरू होने से पहले सभी कमरों को सेनेटाइज किया जाए। वहीं दूसरी पाली की परीक्षा शुरू होने से पहले ही केंद्र को सैनिटाइज करना होगा।

Telegram Facebook
Twitter Facebook Group
Google NewsApp Download

Leave a comment