Bhasha Ke Kitne Roop Hote Hain | भाषा किसे कहते हैं

हिंदी व्याकरण में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न, Bhasha Ke Kitne Roop Hote Hain, Bhasha Kise Kahate Hain, Boli Kise Kahate Hain (बोलि किसे कहते हैं) तो दोस्तों, आज हम आपको इस पोस्ट में आपको बताएंगे कि कौन सी भाषा कहलाती है अर्थात भाषा किसे कहते हैं और भाषा के कितने रूप होते हैं, ताकि आप भाषा के कितने रूप होते हैं को बेहतर तरिके से समझ सकें।

आज हम इस आर्टिकल में हम भाषा एवं भाषा के भेदों को उदहारण सहित जानेंगे। इसके साथ ही भाषा किसे कहते हैं? भाषा के कितने भेद हैं? इन प्रश्नों (Bhasha Kise Kahate Hain) इत्यादि, के बारे में विस्तार से चर्चा करेंगे और इसके बारे में जानेंगे।

सबसे पहले हम भाषा की परिभाषा जानते हैं और सबसे पहले यह जानते हैं कि भाषा क्या कहलाती है। अगर हम आसान सभदों में भाषा की परिभाषा बताएं तो, “अपने मन की बात दुसरों तक पहुँचाने और दूसरों की बात को समझने का साधन को ही भाषा कहा जाता हैं।”

भाषा के कितने रूप होते हैं अथवा Bhasha Ke Kitne Roop Hote Hain के बारे में विस्तार से चर्चा करने से पहले, हम भाषा की परिभाषा को जान लेते हैं। और सबसे पहले ये जानते हैं की Bhasha Kise Kahate Hain भाषा किसे कहते हैं?

Bhasha Kise Kahate Hain

भाषा मनुष्य की आंतरिक अभिव्यक्ति है, जिसके माध्यम से उनके मन में आने वाले विचारों और भावनाओं को बोलने, लिखने या संकेतों के रूप में व्यवस्थित तरीके से व्यक्त किया जाता है।

यह बात आज हर बच्चा जानता है कि हर व्यक्ति की पहचान उसकी भाषा से होती है। प्रत्येक व्यक्ति जो भाषा बोलता है वह उस जाति को दर्शाता है जिससे वे संबंधित हैं या जिस स्थान से वे आते हैं। इन सब बातों को भाषा के द्वारा ही जाना जा सकता है।

भाषा व्यक्ति के पीछे का इतिहास बताती है। हमारे जीवन में भाषा का बहुत महत्व है। लेकिन क्या आप जानते हैं, सभी भाषा का अर्थ क्या है, इसमें कितने अंतर हैं, इत्यादि।

भाषा एक प्रणाली है जिसके माध्यम से प्रत्येक व्यक्ति अपनी भावनाओं को व्यक्त करता है। भाषा के कारण ही पता चलता है कि सामने वाला नाराज है या खुश, आज्ञाकारी है या नहीं। भाषा के कारण ही यह ज्ञान होता है कि प्रत्येक व्यक्ति का व्यवहार एक दूसरे से काफी भिन्न होता है। जब भी किसी को अपना गुस्सा जाहिर करना होता है या खुशी जाहिर करनी होती है तो वह भाषा का इस्तेमाल करता है।

भाषा किसे कहते हैं उदाहरण

  • जब कोई हैरान होता हूं तो वह आंखें उठाता हैं।
  • जब कोई संकल्प लेता है, तो वह अपनी मुट्ठी बांध लेता हैं।
  • अपने खिलाफ कुछ गलत प्रकट करने के लिए गुस्सा व्यक्त करता हैं।

यह आवश्यक नहीं है कि जो बोला जाता है वह भाषा हो, क्योंकि भाषा केवल शब्दों और वाक्यों तक ही सीमित नहीं है। भाषा का प्रसार होता है, वह प्रत्येक वस्तु जिससे हम किसी दूसरे व्यक्ति या स्वयं से बात करते हैं। यानी अपने अनुभवों, भावनाओं, अपेक्षाओं को किसी से व्यक्त करें, यह सब भाषा के अंतर्गत आता है।

आप भाषा के बारे में कई अलग-अलग राय और परिभाषाएँ पा सकते हैं। महान विद्वान और दार्शनिक भाषा के संबंध में विभिन्न विचारों को स्पष्ट करते हैं।

Bhasha Ke Kitne Roop Hote Hain
Bhasha Ke Kitne Roop Hote Hain

Bhasha Ke Kitne Roop Hote Hain | भाषा के कितने रूप होते हैं

भारत का हिन्दी साहित्य बहुत प्राचीन काल से चला आ रहा है, उसमें अनेक भाषाओं का निर्माण हुआ और उसी भाषा के आधार पर अन्य हिन्दी व्याकरणों का निर्माण हुआ और हिन्दी व्याकरण के बिना कोई भी भाषा अधूरी कहलाती है।

दुनिया में कई भाषाएं बोली जाती हैं, प्रत्येक भाषा की अपनी विशेषताएं, विविधता होती है। लेकिन भाषा के मुख्यतः तीन प्रकार और रूप होते हैं। किसी भी भाषा को बोलने के लिए उस भाषा के बारे में जानकारी प्राप्त करना आवश्यक है।

Check This:  How Many Letters In Hindi Alphabets | Hindi Varnamala Words

बात करें कि भाषा के कितने रूप हैं, तो भाषा के मुख्य रूप से तीन रूप हैं, जिनसे आप किसी भी भावना को दूसरे व्यक्ति या किसी के सामने व्यक्त कर सकते हैं।

भाषा मुख्यतः तीन प्रकार की होती है, मौखिक भाषा, लिखित भाषा और सांकेतिक भाषा। सामान्य तौर पर भाषा के केवल 2 रूप होते हैं, मौखिक भाषा और लिखित भाषा।

Hindi Bhasha Ki Lipi Kya Hai

  • मौखिक भाषा
  • लिखित भाषा
  • सांकेतिक भाषा

मौखिक भाषा

मौखिक भाषा वह होती है जिसमें हम अपने मन और मन की सारी बातें किसी दूसरे व्यक्ति से बोलकर व्यक्त करते हैं। अर्थात भाषा का वह रूप जिसमें हम दूसरों के सामने बोलकर अपने विचारों और भावनाओं को धारण कर सकते हैं, उसे हम मौखिक भाषा कहते हैं। यानी भाषा के इस रूप में व्यक्ति अपनी बात बोलता है, ताकि सामने वाला उसे अच्छी तरह समझ सके।

मौखिक भाषा विभिन्न प्रकार की हो सकती है, जिसमें किसी भी स्थान के आधार पर मौखिक भाषा का प्रयोग किया जाता है, प्रत्येक राज्य की मौखिक भाषा भिन्न हो सकती है, प्रत्येक राज्य की मौखिक भाषा भिन्न हो सकती है।

जैसे की; एक क्रिकेट मैच के दौरान लोगों को स्पीकर के माध्यम से खेल की सभी गतिविधियों के बारे में बताया जाता है, या हम कह सकते हैं कि जब हम मोबाइल फोन के माध्यम से किसी के संपर्क में आते हैं, तो हम हमेशा एक दूसरे से बात करते हैं। बात को व्यक्त करते हुए उसे मौखिक भाषा कहते हैं।

लिखित भाषा

भाषा का वह रूप जिसमें हम अपने विचारों और भावनाओं को दूसरों के सामने लिखकर और समझते हैं और दूसरों के विचारों और भाषा को पढ़कर व्यक्त करते हैं, लिखित भाषा कहलाती है। जब हम अपने शब्दों को पुस्तक, पत्र या किसी अन्य लिखित भाषा के माध्यम से दूसरों तक पहुँचाते हैं और दूसरों के शब्दों को पढ़कर समझते हैं, तो इसे लिखित भाषा कहा जाता है।

अर्थात् लिखित भाषा तब कहलाती है जब हम अपने विचारों और भावनाओं को लिखकर किसी दूसरे व्यक्ति तक पहुँचाते हैं।

किसी भी व्यक्ति से संवाद करने के लिए एक विशिष्ट हस्तलेखन का प्रयोग किया जाता है, इसे हम मौखिक भाषा कह सकते हैं। पुराने जमाने में लोग पत्र लिखकर अपनी भावनाओं और मनोदशा को व्यक्त करते थे और सामने वाला व्यक्ति भी पत्र लिखने वाले व्यक्ति की मनोदशा और भावनाओं को समझ सकता था, यह लिखित भाषा का रूप है। लिखित भाषा के कई उदाहरण आज भी हमारे आसपास हैं। जैसे की; समाचार पत्र, पुस्तकें आदि।

सांकेतिक भाषा

भाषा का वह रूप जिसमें हम इशारों, विशिष्ट संकेतों द्वारा अपने विचारों और भावनाओं को व्यक्त करते हैं और इशारों, विशिष्ट संकेतों के माध्यम से दूसरों के प्रभाव और विचारों को समझते हैं, उसे हम संकेत भाषा कहते हैं।

सांकेतिक भाषा जिसमें लोग विचारों के माध्यम से अपनी बात व्यक्त करते हैं। खासकर वे लोग जो बहरे और गूंगे हैं, वे अपनी बात सामने रखने के लिए सांकेतिक भाषा का इस्तेमाल करते हैं।

वह अपने सामने वाले को इशारों से अपनी बात समझाने की कोशिश करता है और सामने वाला व्यक्ति अपने इशारों से उस व्यक्ति की मनोदशा, भावना को समझता है।

इस प्रकार की सांकेतिक भाषा का उपयोग ज्यादातर किसी भी व्यक्ति के साथ संवाद करने के लिए किया जाता है जिससे बात करने के लिए एक विशिष्ट संकेत का उपयोग किया जाता है। अगर आप किसी जानवर को कोई बात समझाना चाहते हैं, तो आप इस भाषा का इस्तेमाल करके उसे समझा सकते हैं।

Rashtrabhasha Kise Kahate Hain?

वह भाषा जो किसी भी देश में अधिक से अधिक बोली और समझी जाती है, उस भाषा को उस देश का राष्ट्रभाषा कहा जाता है। और हमारे देश भारत में हिंदी भाषा को सबसे ज्यादा बोली एवं समझी जाती हैं, इसलिए भारत का राष्ट्रीय भाषा हिंदी हैं।

आपको ये भी बता दें की, भारत देश में हर साल के 14 सितम्बर को हम हिन्दी दिवस मनाया जाता हैं।

अन्य भाषाएँ

राज्यभाषा 
बिहार/उत्तर प्रदेशभोजपुरी
गुजरातगुजराती 
महाराष्ट्रमराठी 
पंजाबपंजाबी 
पश्मिम बंगालबांगला 
तमिलनाडुतमिल 
कर्नाटककन्नड़

दुनिया में कई भाषाएँ बोली और लिखी जाती हैं। आपने अपने आस-पास कई ऐसे लोगों को देखा होगा, जो अलग-अलग राज्यों से आए होंगे। उदाहरण के लिए, कुछ महाराष्ट्र से, कुछ पंजाब से, कुछ गुजरात से, कुछ बंगाल से और कुछ उड़ीसा से। सबकी अपनी-अपनी भाषा है।

Check This:  ऊष्म व्यंजन किसे कहते हैं | Ushm Vyanjan Kise Kahte Hain

Hindi Bhasha Ki Lipi Kya Hai

किसी भी भाषा की लिखावट या लिखने के तरीके को लिपि कहते हैं। ध्वनि (आवाज) लिखने के लिए जिन प्रतीकों का प्रयोग किया जाता है उन्हें लिपि कहते हैं।

लिपि की सहायता से कोई भी वस्तु (रामायण, महाभारत, भगवत गीता) संग्रहित की जा सकती है। एक लिपि में लिखे गए पाठ का दूसरी लिपि में परिवर्तन लिप्यंतरण कहलाता है।

लिपि हर भाषा अलग तरह से लिखी जाती है। लिखने के इस तरीके को लिपि कहा जाता है। कुछ प्रमुख भाषाओं और उनकी लिपियों के नाम इस प्रकार हैं;

हिन्दी, संस्कृत, गुजराती, मराठी, नेपालीदेवनागरी
अंग्रेजीरोमन
उर्दूफ़ारसी
पंजाबीगुरुमुखी
बांगलाबांगला

भाषा के प्रकार

  • मातृभाषा: जब कोई बच्चा जन्म लेता है और धीरे-धीरे बड़ा हो जाता है, तो वह अपनी शैली में बोलने की कोशिश करता है कि वह अपने माता-पिता या अन्य लोगों को सुनता है या उसी भाषा का उपयोग करता है, तो उसकी मातृभाषा थी। दूसरे शब्दों में, हम यह भी बात कर सकते हैं कि जन्म लेने के बाद, वह व्यक्ति जो पहली भाषा सीखता है और उसे बोलने के लिए उपयोग करता है, उसने अपनी मातृभाषा को बुलाया। उदाहरण के लिए यदि उत्तर प्रदेश में एक बच्चा पैदा होता है, तो वह पहले भोजपुरी बोलते हुए सीखता है, अगर महाराष्ट्र में पैदा हुआ कोई भी, तो वह अपनी मातृभाषा बोलता है। इसके बाद ही, वह विभिन्न भाषाओं को बोलने के लिए सिखाता है।
  • राजभाषा: जैसा कि इसका नाम स्पष्ट है कि राज्य की भाषा का अर्थ वह भाषा है जिसका उपयोग देश के राज्य के अंदर राज्य के काम के लिए किया जाता है, जिसे आधिकारिक भाषा कहा जाता है। आधिकारिक भाषा किसी भी राज्य की आधिकारिक भाषा है जिसका उपयोग प्रशासनिक और राज्य के काम के लिए किया जाता है। आधिकारिक भाषा एक संवैधानिक शब्द है, इसलिए कोई भी इसके साथ छेड़छाड़ नहीं कर सकता है। राजा के समय, इस भाषा को अदालत से बात की गई थी। आधिकारिक भाषा किसी भी राज्य की एक आम भाषा है जो उस राज्य में सबसे अधिक बोली जाती है।
  • राष्ट्रभाषा: ऐसी भाषा जो सबसे अधिक संभावना है और एक राष्ट्र में माना जाता है और उस देश की संस्कृति से जुड़ा हुआ है, देश की रेटिंग ज्ञात है। एक तरह से यह पूरे देश की भाषा है जो हर जगह रहने वाले लोगों की बातचीत स्थापित करता है। दूसरे शब्दों में, पूरे देश के लोग थोड़ा सा जानते हैं और समझते हैं कि भाषा को राष्ट्रीय भाषा कहा जाता है। भारत में ज्यादातर लोग हिंदी को राष्ट्र भाषा के रूप में जानते हैं क्योंकि हिंदी देश में सबसे अधिक बोली जाती है, लेकिन अब तक हिंदी को राष्ट्रीय भाषा के रूप में स्वीकार नहीं किया गया है, अनुच्छेद 343 के अनुसार, भारत के संविधान के तहत हिंदी भाषा को भारत के रूप में मान्यता दी गई है ‘ आधिकारिक भाषा ‘, इसका मतलब है कि हिंदी केवल राज्य के काम में उपयोग किया जा सकता है।
भारत की भाषाएँ

भारत की भाषाएँ

  • जम्मू एवं कश्मीर में कश्मीरी डोगरी और हिन्दी है।
  • हिमाचल प्रदेश में हिन्दी पंजाबी और नेपाली है।
  • हरियाणा में हिन्दी, पंजाबी और उर्दू है।
  • पंजाब में पंजाबी व हिन्दी है।
  • उत्तराखण्ड में हिन्दी उर्दू, पंजाबी और नेपाली है।
  • दिल्ली में हिन्दी, पंजाबी, उर्दू और बंगाली है।
  • उत्तर प्रदेश में हिन्दी व उर्दू है।
  • राजस्थान में हिन्दी, पंजाबी और उर्दू है।
  • मध्य प्रदेश में हिन्दी,मराठी और उर्दू है।
  • पश्चिम बंगाल बंगाली हिन्दी, संताली, उर्दू, नेपाली है।
  • छत्तीसगढ़ में छत्तीसगढ़ी व हिन्दी है।
  • बिहार में हिन्दी, मैथिली और उर्दू हैं।
  • झारखण्ड में हिन्दी, संताली, बंगाली और उर्दू है।
  • सिक्किम में नेपाली, हिन्दी, बंगाली है।
  • अरुणाचल प्रदेश में बंगाली, नेपाली, हिन्दी और असमिया है।
  • नागालैण्ड में बंगाली हिन्दी और नेपाली है।
  • मिजोरम में बंगाली हिन्दी और नेपाली है।
  • असम में असमिया बंगाली, हिन्दी, बोडो और नेपाली है।
  • त्रिपुरा में बंगाली व हिन्दी है।
  • मेघालय में बंगाली, हिन्दी और नेपाली है।
  • मणिपुर में मणिपुरी, नेपाली, हिन्दी और बंगाली है।
  • ओडिशा में ओड़िया हिन्दी, तेलुगु और संताली है।
  • महाराष्ट्र में मराठी, हिन्दी, उर्दू और गुजराती है।
  • गुजरात में गुजराती, हिन्दी, सिन्धी, मराठी और उर्दू है।
  • कर्नाटक में कन्नड़ उर्दू, तेलुगू, मराठी और तमिल है।
  • दमन और दीव में गुजराती हिन्दी और मराठी है।
  • दादरा और नगर हवेली में गुजराती, हिन्दी, कोंकणी और मराठी है।
  • गोवा में कोंकणी मराठी, हिन्दी और कन्नड़ है।
  • आन्ध्र प्रदेश में तेलुगु उर्दू, हिन्दी और तमिल है।
  • केरल में मलयालम है।
  • लक्षद्वीप में मलयालम है।
  • तमिलनाडु में तमिल तेलुगू, कन्नड़ और उर्दू‌ है।
  • पुडुचेरी में तमिल तेलुगू, कन्नड़ और उर्दू है।
  • अण्डमान और निकोबार द्वीप समूह में बंगाली, हिन्दी, तमिल, तेलुगू और मलयालम है।
Check This:  Sanyukt Vyanjan Kitne Hote Hain | संयुक्त व्यंजन

Boli Kise Kahate Hain

वैसे तो विश्व में भाषाओं की संख्या लगभग 7000 मानी जाती है। लेकिन भाषा के रूप या भेद या प्रकार मुख्य तीन माने जाते हैं। यहां हम भाषाओं की संख्या के बारे में बात नहीं कर रहे हैं।

भाषा मनुष्य की वह आंतरिक अभिव्यक्ति है जो उसके मनोगत विचारों और भावनाओं को व्यवस्थित रूप से बोलकर या लिखकर व्यक्त की जाती है।

बात रूप या भेद या भाषा के प्रकार की हो रही है। तो भाषा के 3 रूप पूरे विश्व में प्रचलित हैं। फिर भाषा चाहे हिंदी हो या अंग्रेजी, उसके केवल तीन रूप होंगे।

भारत देश में भिन्न-भिन्न प्रकार की भाषाएँ बोलकर यह बताया जाता है। इसलिए हिंदी सबसे अधिक बोली जाने वाली भाषा है। लेकिन देखा गया है। हिन्दी का इतना प्रचार कम मात्रा में हुआ। जिससे वहां के लोगों की भाषा एक क्षेत्र से दूसरे क्षेत्र में काम करने में सबसे बड़ी बाधा है।

मानक भाषा को क्या कहते हैं?

किसी भी राष्ट्र या देश में एक ऐसी भाषा की आवश्यकता होती है जो विभिन्न व्यवहार क्षेत्रों में संचार उपकरण की महत्वपूर्ण भूमिका निभा सके। इसके लिए यह भी आवश्यक है कि भाषा क्षेत्रीय और सामाजिक विविधताओं से ऊपर उठकर सार्वभौमिक और सार्वभौमिक हो।

यद्यपि किसी भी समाज की संचार प्रणाली अपनी सामाजिक प्रक्रिया के भीतर सार्वभौमिक और स्वीकार्य भाषा पाती है, लेकिन इसके समुचित विकास और प्रसार के लिए इसकी योजना भी आवश्यक है – भाषा नियोजन का यह कार्य दो दिशाओं में जाता है- एक, मानकीकरण और दूसरा, आधुनिकीकरण।

मानकीकरण रूपात्मक एकीकरण की एक प्रक्रिया है जिसमें विविधता में एकता के आधार पर व्याकरणिक रूपों का मानकीकरण किया जाता है, और आधुनिकीकरण कार्यात्मक विविधता की एक प्रक्रिया है जिसमें भाषाई रूपों को विभेदित किया जाता है। इसे विभिन्न संदर्भों में लाने का प्रयास किया गया है। यह भाषा को एक आदर्श रूप देता है और इसका उपयोग संपर्क भाषा के रूप में किया जाता है। भाषा के इस आदर्श रूप को मानक भाषा कहा जाता है।

भाषा के मानकीकरण की प्रक्रिया में चार बातें मुख्य रूप से रहती हैं

  1. चयन
  2. संसक्ति
  3. प्रयोग
  4. स्वीकृति

समास किसे कहते हैं?

जब दो या दो से अधिक शब्दों के योग से कोई नया शब्द बनता है तो वह यौगिक शब्द होता है और उन शब्दों के संयोजन को यौगिक कहते हैं। जैसे- जनाधार = जनता का आधार । इसमें दो शब्दों जन और आधार का योग हुआ है जिसमें ‘क’ शब्द को यौगिक से हटा दिया गया है। जैसे ज्ञान गंगा अर्थात ज्ञान की गंगा, उसमें की शब्द का लोप हो गया है।

एक यौगिक में कम से कम दो शब्दों या पदों का योग होता है। ऐसे मिलान वाले दो या दो से अधिक पद एक हो जाते हैं। पाए गए शब्दों के विभक्ति प्रत्यय (के, के लिए, में,) छोड़े गए हैं।

लोग अक्सर संधि और समास को एक के रूप में भूल जाते हैं, जबकि संधि दो वर्णों का संयोजन है और समास दो या दो से अधिक शब्दों या शब्दों से बना है। संधि में दो अक्षरों के योग में विकार होने की संभावना होती है, जबकि यौगिक में शब्दों के प्रत्यय का लोप होता है।

समास के मुख्यतः चार भेद हैं

  1. अव्ययीभाव: प्रतिदिन, यथाशक्ति, प्रत्येक
  2. तत्पुरुष: सुखप्राप्त, माखनचोर, नेत्रहीन
  3. द्वन्द: राम-लक्षमण, सीता-गीता, राम-श्याम, माता-पिता
  4. बहुव्रीहि: दशानन, चक्रधर, विषधर, जलज आदि

Last Word:

तो दोस्तों, हमें पूरी उम्मीद हैं कि, आपको हमारे द्वारा दी गई ये जानकारी बहुत ही पसंद आई होगी। हमने इस पोस्ट में भाषा के कितने रूप हैं (Bhasha Ke Kitne Roop Hote Hain)। भाषा में कितने अंतर हैं,के बारे में विस्तार रूप से बताने का प्रयास किया हैं।

और हमें आशा है कि हमने आपको पूरी जानकारी बता दिए हैं कि भाषा को क्या कहा जाता है (Bhasha Kise Kahate Hain), भाषा के कितने रूप हैं, और भाषा के कितने अंतर हैं, आपको हमारा ये आर्टिकल कैसा लगा? अगर आपके मन में अभी भी भाषा किसे कहते हैं (Boli Kise Kahate Hain) को लेकर कुछ सवाल या सुझाव है तो, कृपया आप हमें कमेंटबॉक्स में जरूर बताएं।

Leave a comment