Sparsh Vyanjan kitne Hote Hain | स्पर्श व्यंजन कितने होते हैं

अगर आप इंटरनेट पर स्पर्श व्यंजन कितने होते हैं (Sparsh Vyanjan kitne Hote Hain), Sparsh Vyanjan Kise Kahate Hain, Sparsh Vyanjan Ki Sankhya Kitni Hoti Hai, के बारे में खोज रहे हैं तो आप एकदम सही पोस्ट पढ़ने जा रहे हैं।

इस पोस्ट के माध्यम से, हम आपको स्पर्श व्यंजनों के बारे में विस्तार से चर्चा करने जा रहे हैं और साथ ही इसकी परिभाषा में चर्चा करेंगे, यदि आप स्पर्श व्यंजनों के बारे में पूर्णरूप से जानना चाहते हैं, तो यह आर्टिकल को ध्यानपूर्वक अवश्य ही पढ़ें हैं।

इस आर्टिकल में हम स्पर्श व्यंजन और स्पर्श व्यंजन कितने होते हैं (Sparsh Vyanjan Kitne Hote Hain)?, Sparsh Vyanjan Ki Sankhya Kitni Hoti Hai के बारे में विस्तार से बताने जा जा रहे हैं, हमें पूर्ण उम्मीद हैं की, इस पोस्ट के माध्यम से आप स्पर्श स्वर और उसके सभी भेदों अथवा प्रकार के बारे में बहुत ही बेहतर से समझ पाएँगे।

Sparsh Vyanjan Kitne Hote Hain?

Sparsh Vyanjan वे व्यंजन होते हैं, जिनमें जीभ / जिह्व या निचला होंठ / होष्ठ उच्चारण स्थान को स्पर्श करते हुए हवा अथवा वायु को रोकता हैं। उनको स्पर्श व्यंजन कहा जाता हैं। sparsh vyanjan के वर्गों को उच्चारण के आधार पर कुल पाँच भागों/वर्गों में बाँटा गया हैं।

हम आपको ये भी बताना चाहेंगे की, वर्ण ‘से ‘ तक कुल 25 व्यंजन स्पर्श शामिल होते हैं । वहीं द्विगुण व्यंजन ड़, ढ़ को जोड़ने के बाद से इनकी कुल संख्या 27 हो जाती हैं। और इससे हमारी श्वास / साँस भी थोड़े वक़्त के लिए रुकती हैं।

स्पर्श व्यंजन कितने होते हैं

  • क वर्ग: क, ख, ग, घ, ङ।
  • च वर्ग: च, छ, ज, झ, ञ।
  • ट वर्ग: ट, ठ, ड, ढ, ण (ड़्, ढ़्)।
  • त वर्ग: त, थ, द, ध, न।
  • प वर्ग: प, फ, ब, भ, म।

हम आपको ये भी बता दें की, स्पर्श व्यंजन को वर्गीय व्यंजन और उदित व्यंजन के नाम से भी बोला / जाना जाता हैं।

Sparsh Vyanjan Ki Sankhya Kitni Hoti Hai

इसके साथ ही हम आपको ये भी बताना चाहेंगे की, स्पर्श व्यंजनों की कुल संख्या 25 की होती हैं, जिनमे निम्नलिखित वर्ण शामिल हैं, जैसे की; क, ख, ग, घ, ङ, च, छ, ज, झ, ञ, ट, ठ, ड, ढ, ण, त, थ, द, ध, न, प, फ, व, भ और

हम आपको बता दें की, हिंदी भाषा में प्रयुक्त होने वाली सबसे छोटी ध्वनि को वर्ण कहा जाता हैं। ये मूल ध्वनि होती हैं, इनको और अलग अलग यानि की विभाजित नहीं किया जा सकता हैं। ध्वनि के उदाहरण हैं, जो की; अ, आ, इ, ई, उ, ऊ, क्, ख् इत्यादि।

स्पर्च व्यंजन के उदाहरण

अब हम आपको स्पर्श व्यंजन के कुछ उदाहरन देने जा रहे हैं, जिससे माध्यम से आप थोड़ी आसानी से स्पर्श व्यंजन समझ पाएँगे।

  • ‘ और ‘‘ के उच्चारण करने पर, निचला और उपरी होंठ आपस में मिल जाते हैं।
  • ‘ और ‘‘ के उच्चारण में जीभ / जिह्व, मुँह/मुख के अंदर ऊपरी तलवे को स्पर्श करती हैं।
  • ‘ और ‘‘ के उच्चारण करने पर गले में वायु / हवा रूप जाती हैं।
  • ‘ और ‘‘ के उच्चारण में जीभ / जिह्व, दांतों के ऊपर मसूड़ें को स्पर्श करती हैं।
ये भी पढ़ें:   Bihar Board Certificate Verification | Old BSEB Marksheet Result Verify

Sparsh Vyanjan Kise Kahate Hain

अगर आप अभी तक ये जानने में असफल हैं की, स्पर्श व्यंजन की संख्या कितनी हैं? तो इसका सरल जवाब हैं की; ‘क’ वर्ण से लेकर ‘म’ वर्ण के अंदर जितने भी वर्ण होते हैं। वो सभी वर्णों को स्पर्श व्यंजन में ही गिना जाता हैं, अर्थात हिंदी वर्णमाला में पाँच वर्ग को स्पर्श व्यंजन के अंर्गत शामिल किया जाता हैं। जो की निम्नलिखित हैं।

स्पर्श व्यंजन वर्ण कितने प्रकार के हैं

क वर्ग (कण्ठ का स्पर्श)क, ख, ग, घ, ङ.
च वर्ग (तालु का स्पर्श)च, छ, ज, झ, ञ.
ट वर्ग (मूर्धा का स्पर्श)ट, ठ, ड, ढ, ण, (ड़, ढ़).
त वर्ग (दाँतो का स्पर्श)त, थ, द, ध, न.
प वर्ग (होठों का स्पर्श)प, फ, ब, भ, म.

varn ki paribhasha vyanjan kitne prakar ke hote hain | vyanjan ki paribhasha vyanjan ke bhed | व्यंजन कितने प्रकार के होते हैं | consonant kitne hote hain | wenjun kitne prakar ke hote hain wenjun kitne hote hain | hindi mein vyanjan kitne hote hain | how many vyanjan in hindi

हिन्दी भाषा में कुल कितने व्यंजन है?

हिंदी भाषा में उच्चारण की नजर से वर्णो की कुल संख्या 45 (35 व्यंजन+10 स्वर) की होती हैं, वहीं लेखन की मद्देनजर से वर्णों की कुल संख्या 52 (39 व्यंजन+13 स्वर) की होती हैं।

आइए हम आपको बताएं कि अध्ययन के व्यंजन तीन अलग-अलग प्रकारों में बिभेदीकरण किया जाता हैं, जिनमें से पहला अन्तस्थ व्यंजन कहलाता हैं, इसके अलावे दूसरा उष्म व्यंजन कहलाता हैं और तीसरा स्पर्श व्यंजन (स्पर्श व्यंजन कितने होते हैं, Sparsh Vyanjan Kise Kahate Hain) होता हैं, जिसके बारे में हमने आपको इसी पोस्ट में ऊपर बताया हैं।

वो सभी वर्ण जिनके पूर्ण उच्चारण के लिए स्वरों की मदद ली जाती हैं, उनको व्यंजन कहा जाता हैं। यानि की, व्यंजन बिना स्वरों की मदद के नहीं बोला जा सकता हैं। इनकी कुल संख्या 34 होती हैं। इसके निम्न तीन भेद होते हैं:

Vyanjan Kitne Hote Hain

  1. स्पर्श व्यंजन
  2. अंतःस्थ व्यंजन
  3. ऊष्म व्यंजन

sparsh vyanjan kitne hote hain sparsh vyanjan kise kahate hain sparsh vyanjan ke udaharan | sparsh vyanjan in sanskrit | sparsh vyanjan kaun kaun se hain sparsh vyanjan hai | sparsh vyanjan ka chayan kijiye | how many sparsh vyanjan are there sparsh vyanjan ki sankhya kitni hai sparsh sangharshi vyanjan

Last Word:

तो मेरे प्यारे दोस्तों, हमे पूर्ण विश्वास हैं की, आप इस पोस्ट के माध्यम से बहुत बेहतर से जान गए होंगे की स्पर्श व्यंजन किसे कहते हैं? Sparsh Vyanjan Kitne Hote Hain, Sparsh Vyanjan Ki Sankhya Kitni Hoti Hai, Sparsh Vyanjan Kise Kahate Hain, और स्पर्श व्यंजन कितने होते हैं।

लेकिन फिर भी आप स्पर्श व्यंजन से सम्बन्धित को प्रश्न हों, तो आप हमसे निचे कमेंटबॉक्स के माध्यम से अपना सवाल बेझिझक पूछ सकते हैं। हमारी टीम आपको जल्द से जल्द आपके प्रश्न का उत्तर देने के लिए हमेशा तैयार रहते हैं।

और साथ ही अगर आपको हमारे इस पोस्ट से जर्रा सा भी फायदा हुआ हो, तो कृपया इस पोस्ट को अपने परिजनों एवं दोस्तों के साथ अवश्य ही शेयर करें।

Leave a comment