Hindi Varnamala In Hindi | Varnmala Kise Kahate Kain

By Shreya Sinha

Published On:

Varnamala In Hindi

आज हम आपको इस पोस्ट में बताएंगे कि हिंदी वर्णमाला क्या होता है? (Varnamala In Hindi), What is Varnamala In Hindi, Varnmala Kise Kahate Kain और साथ ही हिंदी वर्णमाला में कुल कितने अक्षर होते हैं।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

हम आपको बता दें की, हमारे द्वारा प्रकट की गई सार्थक आवाजों / ध्वनियों को ही भाषा कहा जाता हैं। हिन्दी एक भाषा होती हैं, जिसकी सबसे छोटी इकाई ध्वनि होती हैं, और इसी ध्वनि को ही हम वर्ण कहते हैं। साथ ही आपको ये भी बता दें की, हिंदी वर्णमाला, वर्णों को व्यवस्थित करने के समूह होता है। जैसा कि आप सभी जानते हैं कि हिंदी हमारी मातृभाषा है। इस भाषा का ज्ञान हमें बचपन से ही मिल जाता है, लेकिन बचपन में हम बोलना ही सीखते हैं। जब हम स्कूल जाना शुरू करते हैं तो सबसे पहले हमें भाषा सिखाई जाती है।

भाषा सीखने में हम सबसे पहले अक्षरों से परिचित होते हैं। अक्षर को वर्ण भी कहते हैं। इस वर्णमाला में हमें अक्षरों के कई रूप देखने को मिलते हैं। इस पोस्ट में मैंने आपको वर्णमाला से परिचित कराने की कोशिश की है, तो आइए! वर्णमाला से खुद को परिचित करें

Varnamala In Hindi

अक्षर शब्द दो शब्दों से मिलकर बना है- वर्ण + माला, वर्ण = अक्षर और माला = समूह अर्थात अक्षरों के समूह को अक्षर कहते हैं। भाषा की सबसे छोटी इकाई ध्वनि है। इस ध्वनि को वर्ण कहते हैं।

अक्षरों की व्यवस्था के समुच्चय को अक्षर कहते हैं। हिन्दी में उच्चारण के आधार पर 44 अक्षर होते हैं। इसमें 11 स्वर और 33 व्यंजन हैं। लेखन के आधार पर 52 अक्षर हैं, जिनमें 13 स्वर, 35 व्यंजन और 4 संयुक्त व्यंजन हैं।

बोली जाने वाली भाषा की मूल ध्वनियों को व्यक्त करने वाले प्रतीकों को वर्ण कहते हैं। रचना की दृष्टि से वर्ण भाषा की सबसे छोटी इकाई है। अक्षर टुकड़े नहीं हो सकते, वह सबसे छोटी ध्वनि या मुंह से निकलने वाली आवाज, जिसे खंडित नहीं किया जा सकता, वर्ण वर्ण भी अक्षर कहलाते हैं

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

उदाहरण: अ, ए, ग, म, प आदि वर्ण है जिनके खंड नहीं किए जा सकते हां इन के योग से शब्द बनते हैं जैसे;

  • मदन = म + अ + द + अ + न + अ
  • आम = आ + म + अ
  • सुरेश = स + उ + र + ए + श + अ

वर्णमाला के प्रकार

आज हम आपको हिंदी वर्णमाला के बारे में पूरी जानकारी देंगे। लेकिन इससे पहले अगर आपको व्याकरण का ज्ञान नहीं है तो आपको व्याकरण का ज्ञान होना चाहिए। तो आप हिंदी वर्णमाला के बारे में नहीं समझ पाएंगे।

इसके लिए हम सबसे पहले आपको कुछ ग्रामर के बारे में जानकारी देंगे। उसके बाद आपको अक्षर के बारे में बताएंगे। इसलिए आपसे अनुरोध है कि पोस्ट को पूरा पढ़ें। तब तुम समझोगे। अब बात करते हैं व्याकरण की, व्याकरण वह विद्या है, जिसके द्वारा हम किसी भाषा के नियमों और प्रणालियों का ज्ञान प्राप्त करते हैं। उदाहरण-अभिव्यक्ति एक ऐसा समर्थन उपकरण है। जिससे मनुष्य अपने विचार दूसरों तक पहुंचा सके। जैसे- हिंदी, संस्कृत, अंग्रेजी, बंगाली, गुजराती, पंजाबी, उर्दू, मलयालम, चीनी आदि।

मनुष्य अपने विचारों को मौखिक और लिखित भाषा में व्यक्त कर सकता है, लेकिन इसके लिए भाषा के निर्धारण के लिए एक नियमबद्ध योजना की आवश्यकता होती है और उस नियमबद्ध योजना को व्याकरण कहा जाता है, भाषा के क्षेत्रीय रूप को बोली कहा जाता है। अर्थात् देश की विभिन्न भाषाओं की बोली कहलाती है और किसी भी क्षेत्रीय बोली के लिखित रूप में स्थिर साहित्य उस देश की भाषा कहलाती है।

लिखित भाषा में अक्षर या वर्ण प्रत्येक लिखित भाषा में प्रत्येक ध्वनि के लिए एक निश्चित प्रतीक होता है, जिसे हम वर्ण कहते हैं, अक्षरों या वर्णों के संकेतों को लिखने की विधि को लिपि कहा जाता है, प्रत्येक भाषा की अपनी लिपि होती है देवनागरी एक वैज्ञानिक लिपि है है

इसमें बोली जाने वाली अधिकांश ध्वनियाँ संस्कृत, मराठी, नेपाली आदि लिखी जा सकती हैं। भाषाएँ देवनागरी लिपि में भी लिखी जाती हैं, अंग्रेजी भाषा रोमन लिपि में, उर्दू फारसी लिपि में और पंजाबी गुरुमुखी लिपि में लिखी जाती है।

उच्चारण और प्रयोग के हिसाब से वर्णों को दो भेड़ों में विभाजित किया गया हैं, जिसमे से पहला स्वर और दूसरा व्यंजन शामिल हैं

स्वर क्या होता है?

वे अक्षर जो स्वतंत्र रूप से बोले जा सकते हैं स्वर कहलाते हैं। यानी वे अक्षर जिनका उच्चारण करने के लिए किसी अन्य अक्षर की आवश्यकता नहीं होती है। उदाहरण के तौर पर अगर हम आम को अलग करके आम लिखते हैं तो कुछ इस तरह लिखा होगा; आ+म्+अ. अब आप सभी यहां एक बात नोट कर लें, ‘‘ ने बोलने के लिए किसी और अक्षर का सहारा नहीं लिया, जबकि ‘‘ बोलने के लिए ‘‘ की आवश्यकता होती है, इसलिए स्वर स्वतंत्र रूप से उच्चारित अक्षर हैं।परंपरागत रूप से स्वरों की संख्या 13 मानी जाती है, लेकिन उच्चारण की दृष्टि से 11 स्वर ही होते हैं।

  • उच्चारण के आधार पर स्वर; अ, आ , इ , ई , उ , ऊ , ऋ, ए , ऐ , ओ , औ इत्यादि।
  • लेखन के आधार पर स्वर; अ, आ, इ , ई , उ , ऊ , ऋ, ए , ऐ , ओ , औ , अं , अ: , इत्यादि।
  • अं , अ: को अयोगवाह कहते हैं। ये पृथक् स्वर नहीं हैं अपितु स्वरों के साथ ही प्रयुक्त होते हैं।

उच्चारण के दृष्टि से स्वर के तीन भेद हैं

  • ह्रस्व स्वर: जिन स्वरों के उच्चारण में कम-से-कम समय लगता हैं उन्हें ह्रस्व स्वर कहते हैं। ये चार हैं; अ, इ, उ, ऋ। इन्हें मूल स्वर भी कहते हैं।
  • दीर्घ स्वर: जिन स्वरों के उच्चारण में स्वर स्वरों से दुगना समय लगता है, वे स्वर दीर्घ स्वर कहलाते हैं। हिंदी में ये सात हैं; आ, ई, ऊ, ए, ए, ओ, औ।
  • प्लुत स्वर: जिन स्वरों के उच्चारण में दीर्घ स्वरों की अपेक्षा अधिक समय लगता है, उन्हें प्लूट स्वर कहते हैं। जैसे मुर्गा जब आवाज करता है तो ‘कुक्दु कुssss’ जैसी आवाज करता है, उसमें ‘कुssss’ की आवाज वही ‘प्लुत स्वर’ होती है। अक्सर उन्हें दूर से फोन करने की आदत होती है। जैसे- अरेsssssss भाई, इधर आओ।

व्यंजन क्या होता है?

अक्षरों के पूर्ण उच्चारण के लिए स्वरों की सहायता ली जाती है, वे व्यंजन कहलाते हैं। अर्थात् स्वरों की सहायता के बिना व्यंजन नहीं बोले जा सकते। ये संख्या में 33 हैं। इसके निम्नलिखित तीन भेद हैं

  • स्पर्श व्यंजन: उन्हें पाँच वर्गों में रखा गया है और प्रत्येक श्रेणी में पाँच व्यंजन हैं। प्रत्येक वर्ग का नाम पहले अक्षर के अनुसार रखा गया है।
    • क वर्ग; क्, ख्, ग्, घ्, ङ्।
    • चवर्ग; च्, छ्, ज्, झ्, ञ्।
    • टवर्ग; ट्, ठ्, ड्, ढ्, ण्, (ड़्, ढ़्)।
    • तवर्ग; त्, थ्, द्, ध्, न्।
    • पवर्ग; प्, फ्, ब्, भ्, म्।
  • अंतःस्थ व्यंजन: यह निम्नलिखित चार हैं; य्, र्, ल्, व्।
  • ऊष्म व्यंजन: ये निम्नलिखित चार हैं; श्, ष्, स्, ह्।
  • संयुक्त व्यंजन: जहां कहीं भी दो या दो से अधिक व्यंजन मिश्रित होते हैं, वे संयुक्त व्यंजन कहलाते हैं, लेकिन देवनागरी लिपि में संयोजन के बाद रूप में परिवर्तन के कारण इन तीनों की गणना की गई है। ये प्रत्येक दो व्यंजनों से बने होते हैं।
    • क्ष = क्+ष = अक्षर
    • त्र = त्+र = त्रिगु्ण
    • ज्ञ = ज्+ञ = ज्ञान

हिंदी वर्णमाला में कुल कितने अक्षर होते है?

हिंदी वर्णमाला हिंदी वर्णमाला में कुल 52 अक्षर हैं।

Alphabet Meaning in Hindi

वर्णमाला को अंग्रेजी में ‘वर्णमाला’ कहते हैं। इसके अलावा अरबी, फारसी, कुर्दी और मध्य पूर्व की भाषाओं में इसे ‘अलिफ-बे’ कहा जाता है।

Hindi Varnamala Chart

Hindi Varnamala Chart
Hindi Varnamala Chart

Matra In Hindi

  • हिन्दी ‘मात्रा’ शब्द का प्रयोग स्वर चिह्न के लिए किया जाता है। ‘:’ एक स्वर के बाद लंबी ध्वनि को दर्शाता है।
ि

Hindi Vowels and their Signs (Matra)

Vowels(Svar)sign/matraMode of writing
N/Aक्+अ
()क्+आका
(ि)क्+इकि
( ◌ी )क्+ईकी
( ◌ु)क्+उकु
(◌ू)क्+ऊकू
(◌ृ)क्+ऋकृ
( ◌े)क्+एके
(◌ै)क्+ऐकै
(◌ो)क्+ओको
(◌ौ)क्+औकौ
अं(◌ं)क्+अंकं
अ:( : ) (Visarga)क्+अ:कः

नोट: जब व्यंजन का उच्चारण बिना स्वर के किया जाता है, तो व्यंजन विशेषक चिह्न दायां तिरछा स्ट्रोक ( ् ) हलंत लेता है; जैसे – क्, म् आदि।

हिंदी मात्रा का नाम और इसका उपयोग कहां किया जाता है?

Martra Namesign/matraWhere is it used?Consonant Shapes formed
AA()क् + आ = का
I(ि)क् + इ = कि
II( ◌ी )क् + ई = की
U( ◌ु)क् + उ = कु
UU(◌ू)क् + ऊ = कू
VOCALIC R(◌ृ)क् + ऋ = कृ
E( ◌े)क् + ए =के
CANDRA E( ॅ )क् +ॅ = कॅ
AI(◌ै)क् + ऐ = कै
O(◌ो)क् + ओ = को
CANDRA O( ॉ )क् + औ = कौ
AU(◌ौ)क् + अं =कं

Varnmala Kise Kahate Kain | Hindi Varnamala In Hindi

Varnamala In Hindi वह ज्ञान है जिसके द्वारा हम किसी (Varnamala In Hindi) भाषा को सही ढंग से लिखना, बोलना और समझना सीखते हैं। भाषा की संरचना के ये नियम सीमित हैं और भाषा के भाव असीमित हैं। एक ही नियम असंख्य भावों को नियंत्रित करता है। जिस अनुशासन के तहत भाषा के इन नियमों का एक साथ अध्ययन किया जाता है, Varnamala In Hindi उसे व्याकरण कहा जाता है।

भाषा में अंतर व्यक्ति और स्थान के अंतर के कारण हो सकता है। इस प्रकार भाषा का रूप निश्चित नहीं होता। अज्ञानता या भ्रम के कारण कुछ लोग शब्दों के उच्चारण या समझ में गलती कर देते हैं। इस प्रकार भाषा का स्वरूप विकृत हो जाता है। व्याकरण का कार्य भाषा की शुद्धता और एकरूपता को बनाए रखना होता है।

वास्तव में, व्याकरण भाषा के नियमों का संकलन और विश्लेषण करता है और इन नियमों को स्थिर करता है। व्याकरण के ये नियम भाषा को मानक और सटीक बनाते हैं। व्याकरण ही भाषा के नियम नहीं बनाता। व्याकरण एक भाषाई समाज के लोगों द्वारा उपयोग की जाने वाली भाषा के रूप के आधार पर व्याकरणिक नियमों को निर्धारित करता है। अतः कहा जा सकता है कि; व्याकरण वह शास्त्र कहलाता है जिसमें किसी भाषा के शुद्ध रूप का ज्ञान देने वाले नियम बताए गए हैं।

व्याकरण के अंग

भाषा के चार मुख्य भाग होते हैं; पद विचार, वर्ण विचार, शब्द विचार और वाक्य विचार। Varnamala In Hindi इसलिए व्याकरण के मुख्यतः चार विभाग हैं।

Types Of Vyakaran

  • वर्ण विचार
  • शब्द विचार
  • पद विचार
  • वाक्य विचार

वर्ण विचार या अक्षर विचार

भाषा की वह छोटी ध्वनि (इकाई) वर्ण कहलाती है, जिसके टुकड़े-टुकड़े नहीं किए जा सकते। उदाहरण के लिए; अ, ब, म, क, ल, प इत्यादि। इसमें वर्णमाला, अक्षरों के भेद, उनके उच्चारण, प्रयोग और परंपराओं की चर्चा की गई है।

शब्द विचार

अक्षरों के संयोजन को एक शब्द कहा जाता है जिसका कुछ अर्थ होता है। Varnamala In Hindi उदाहरण के लिए; कमल, राकेश, खाना, पानी, कानपुर इत्यादि। इसमें शब्द-निर्माण, उनके भेद, शब्द-गुण और उनके उपयोग आदि की चर्चा की गई है।

पद विचार

इसमें पद भेद, पद रूपान्तर और उनके उपयोग आदि के भेद पर विचार किया गया है।

वाक्य विचार

एक वाक्य कई शब्दों से मिलकर बनता है। ये शब्द मिलकर कुछ अर्थ व्यक्त करते हैं। Varnamala In Hindi उदाहरण के लिए; हर कोई टहलने जाता है। राजू सिनेमा देखता है। इनमें वाक्य और उसके भाग, वाक्यांश और विराम चिह्न आदि का विचार किया जाता है।

Related Post

BSEB Matric Ka Result Kab Aayega 2024 Bihar Board Final Date यहाँ देखे

इस वर्ष मैट्रिक परीक्षा 2024 में शामिल हुए छात्र लगातार इंटरनेट पर BSEB Matric Ka Result Kab Aayega 2024 Bihar Board के बारे में सर्च कर रहे हैं, ...

Bihar Board Certificate Verification Online Old BSEB Marksheet Result Verify

high school result verification, bihar board 10th result marksheet, bihar vidyalaya pariksha samiti, bihar board matric certificate verification, bihar school examination board certificate verification, bihar board online, bihar ...

Rajiv Gandhi Career Portal Registration Rajasthan 2024

राजीव गांधी करियर पोर्टल (Rajiv Gandhi Career Portal) राजस्थान सरकार द्वारा यूनिसेफ की मदद से शुरू किया गया है। यह पोर्टल राजस्थान के कक्षा 9वीं से 12वीं के ...

What Is SSLC and Matriculation In RRB JE Means

SSLC and Matriculation In RRB JE are two completely different subjects. The matriculation degree is the measure of scholars who register at a university or college upon graduation ...

Leave a comment